Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 03 & 04 March 2016

New-York-Rail-Hub-2016

 

1) लगभग 3.85 अरब डॉलर की भारी-भरकम लागत से तैयार हो रहे विश्व के सबसे महंगे रेलवे स्टेशन के कुछ भाग को 3 मार्च 2016 को खोल दिया गया। यह स्टेशन किस शहर में स्थित है? – न्यूयॉर्क (अमेरिका)

विस्तार: अमेरिकी की वित्तीय राजधानी के रूप में प्रसिद्ध न्यूयॉर्क (New York) में स्थित इस स्टेशन का नाम है – “वर्ल्ड ट्रेड सेंटर ट्रांसपोर्टेशन हब” (‘World Trade Centre Transportation Hub’)। 3 मार्च 2016 को इसके आंशिक भाग को खोल दिया गया।

 इसके निर्माण में लगभग 3.85 अरब डॉलर ($3.85) का खर्च आया है तथा इस लिहाज से यह वर्तमान में दुनिया का सबसे महंगा रेलवे स्टेशन हो गया है।

 उल्लेखनीय है कि यह रेलवे स्टेशन उसी स्थान पर स्थित है जहाँ 11 सितम्बर 2001 के अल-कायदा हमलों (9/11 attacks) में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर (WTC) की सुप्रसिद्ध ट्विन टॉवर्स धराशाई हो गईं थीं। इस रेलवे हब का प्रयोग न्यू जर्सी की कम्यूटर रेल (New Jersey commuter rail) को न्यूयॉर्क सबवे (New York subway) से जोड़ने के लिए किया जायेगा।

 इस रेलवे स्टेशन के निर्माण में पहले 2 अरब डॉलर का खर्च आने का अनुमान लगाया गया था लेकिन इस परियोजना की सुस्त चाल तथा महंगाई के कारण इसकी लागत अब लगभग दोगुनी हो गई है। इस स्टेशन के मुख्य भवन को स्पेनिश-स्विस वास्तुविद सेण्टियागो कालाट्रावा (Santiago Calatrava) ने तैयार किया था तथा इसमें इस्पात तथा काँच का जमकर प्रयोग किया गया है।

 जब यह स्टेशन पूरी तरह से तैयार हो जायेगा तब यह प्रतिदिन लगभग 2.5 लाख लोगों की आवाजाही में मदद करेगा जिसके चलते यह दुनिया का तीसरा सबसे व्यस्त यातायात-हब बनकर उभरेगा।

…………………………………………..

2) 18 देशों की सेनाओं के संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास (multinational military exercise) का प्रारंभ 2 मार्च 2016 से पुणे (Pune) में शुरू हुआ। देश में आयोजित होने वाले इस अपने तरह के पहले आयोजन को क्या नाम दिया गया है? – “फोर्स 18” (Force 18)

विस्तार: “फोर्स 18” (Force 18) नामक इस अनूठे सैन्य आयोजन में कुल 18 देशों की सेना की टुकड़ियाँ भाग ले रही हैं। आयोजन में शामिल देशों में 10 दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन (ASEAN) के सदस्य हैं जबकि आठ ऑब्ज़र्वर देश (Observer countries) हैं। ये 8 ऑब्ज़र्वर देश हैं – भारत, जापान, दक्षिण कोरिया, चीन, रूस, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड।

 यह भारत की भूमि पर अपनी तरह का पहला आयोजन है तथा इसका आयोजन 2 से 8 मार्च 2016 के बीच पुणे स्थित “औंध मिलिट्री स्टेशन” (Aundh Military Station) पर किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि पुणे भारतीय सेना (Indian Army) की दक्षिण कमान (Southern Command) का मुख्यालय (headquarters) है। एक खास बात यह भी है कि आसियान के सदस्य देशों तथा 10 ऑब्ज़र्वर देशों का यह अपनी तरह का पहला आयोजन भी है।

 इस संयुक्त अभ्यास का मुख्य उद्देश्य सभी देशों को अन्य देशों के संचालन (यानि अंतर्रसंचालन (‘Interoperability’) को समझना) है। इसके अलावा युद्ध परिस्थितियों में अपनाए जाने वाले “स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर्स” (SOPs) के बारे में भी ज्ञान को संवर्द्धित करने का मौका इस संयुक्त अभ्यास में प्रदान किया जायेगा।

…………………………………………..

Martin-Crowe-death-2016

3) न्यूज़ीलैण्ड (New Zealand) के पूर्व क्रिकेट कप्तान तथा दिग्गज बल्लेबाज मार्टिन क्रो (Martin Crowe) का 3 मार्च 2016 को प्रात: निधन हो गया। वे तीन साल से अधिक समय से कैंसर से पीड़ित थे। वे किस आईसीसी एकदिवसीय विश्व-कप (ICC ODI World Cup) के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किए गए थे? – 1992 आईसीसी विश्वकप

विस्तार: मार्टिन क्रो (Martin Crowe) ने अपने शानदार क्रिकेट करियर में अपना उत्कर्ष वर्ष 1992 के ICC विश्व कप में छुआ था जिसकी मेजबानी ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड ने संयुक्त रूप से की थी। उन्होंने इस विश्व कप में सर्वाधिक 456 रन बनाए थे तथा उन्हें टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित (‘Player of the Series’) किया गया था। उन्होंने इस विश्व कप में न्यूज़ीलैण्ड की कप्तानी भी की थी तथा उनकी कप्तानी में उनकी टीम मात्र दो मैच हारी थी। लेकिन पाकिस्तान के हाथों सेमीफाइनल में हारने के बाद उनकी टीम टूर्नामेण्ट के बाहर हो गई थी।

 मार्टिन क्रो ने 13 वर्ष के करियर के दौरान अपने देश के लिए 77 टेस्ट मैच तथा 143 एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (ODI) मैच खेले थे। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने के 45.36 औसत से कुल 5,444 रन बनाए थे तथा इसमें 17 शतक भी शामिल थे। वहीं एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (ODI) क्रिकेट में उन्होंने 38.55 के औसत से कुल 4704 रन बनाए थे। इसमें 4 शतक शामिल थे।

 वे दाएं हाथ के बल्लेबाज थे तथा 80 के दशक के प्रारंभ से लेकर 1996 तक उन्होंने अपने देश का प्रतिनिधित्व किया था। उन्हें वर्ष 2012 में फॉलीक्यूलर लिम्फोमा (follicular lymphoma) नामक कैंसर होने की पुष्टि हुई थी।

…………………………………………..

Scott-Kelly-2016

4) अमेरिका (US) के उस अंतरिक्ष-यात्री (astronaut) का क्या नाम है जो अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) पर 340 दिन बिताने के बाद 1 मार्च 2016 को सकुशल पृथ्वी पर लौटने के बाद अब सबसे अधिक समय तक अंतरिक्ष में रहने वाले अमेरिकी हो गए हैं? – स्कॉट केली (Scott Kelly)

विस्तार: स्कॉट केली (Scott Kelly) अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी NASA के उस अंतरिक्ष यात्री का नाम है जो अंतरिक्ष में स्थापित अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station – ISS) पर कुल 340 दिन बिताने के बाद 1 मार्च 2016 को पृथ्वी (Earth) पर सकुशल वापस लौट आए। वे ISS में रह रहे अपने रूसी सह-यात्री मिखाइल कॉर्निन्को (Mikhail Kornienko) के साथ कजाकिस्तान (Kazakhstan) में उतरे।

 इसके साथ ही केली अब कुल 520 दिन अंतरिक्ष में बिताने के बाद सर्वाधिक लम्बी अवधि वहाँ गुजारने वाले अमेरिकी यात्री भी हो गए हैं। उनके इस नवीनतम अभियान से गहरे अंतरिक्ष से सम्बन्धित तमाम अनसुलझे रहस्यों से पर्दा हटाने में मदद मिली है तथा इससे अमेरिका के मंगल अभियान को भी लाभ हासिल होगा।

 जहाँ तक अंतरिक्ष में सर्वाधिक दिन रहने के विश्व कीर्तिमान की बात है तो यह रिकॉर्ड रूसी अंतरिक्ष-यात्री गेन्नाडी पडल्का (Gennady Padalka) के नाम है जो अंतरिक्ष में कुल 879 दिन बिता चुके हैं।

…………………………………………..

5) कौन सी कार (car) भारतीय बाजार में 30 लाख (3 million) का बिक्री आंकड़ा पार करने वाली पहली कार बनी है, जिसके बारे में इस कार की निर्माता कम्पनी ने 2 मार्च 2016 को घोषणा की? – मारुति ऑल्टो (Maruti Alto)

विस्तार: मारुति ऑल्टो (Maruti Alto) जोकि भारत की सर्वाधिक बिकने वाली कार है, हाल ही में देश की पहली कार बनी है जिसने 30 लाख (3 million) का बिक्री आंकड़ा पार कर लिया है। यह घोषणा इस कार की निर्माता कम्पनी मारुति सुज़ुकी इण्डिया लिमिटेड (Maruti Suzuki India Ltd. (MSIL) ने 2 मार्च 2016 को की।

 वर्ष 2000 में भारतीय बाजार में उतारी गई हैचबैक श्रेणी की इस कार को 30 लाख के आंकड़े को पार करने में 15 वर्ष और 6 माह का समय लगा। ऑल्टो यह आंकड़ा पार करने वाली भारत में पहली कार है।

 मारुति सुज़ुकी का मानना है कि ऑल्टो की रिकॉर्डतोड़ बिक्री का मुख्य कारण इसका मूल्य भारतीय बाजार के बिल्कुल अनुरूप होना, इसका चलाने तथा रख-रखाव का खर्च काफी कम होना तथा देश भर में कम्पनी का सर्विस नेटवर्क मौजूद होना है।