Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 05 -06 May 2017

1) भारत ने दक्षिण एशियाई देशों को अंतरिक्ष सम्बन्धी जानकारी साझा करने की अपनी महात्वाकांक्षी परियोजना दक्षिण एशियाई संचार उपग्रह (South Asia Communication Satellite) जीसैट-9 (GSAT-9) को 5 मई 2017 को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष की कक्षा में स्थापित कर दिया। प्रारंभ में दक्षेस (SAARC) देशों के साझा उपग्रह के रूप में प्रस्तावित इस परियोजना में भारत के कौन से 6 पड़ोसी देश शामिल हैं? –अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका

विस्तार: दक्षिण एशिया संचार उपग्रह के उप-नाम से पुकारे जाने वाले जीसैट-9 का प्रक्षेपण भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) द्वारा 5 मई 2017 को आन्ध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित उपग्रह प्रक्षेपण केन्द्र से किया गया। इसके प्रक्षेपण के किए क्रायोजेनिक इंजन से लैस भारी-भरकम रॉकेट जीएसएलवी-एफ9 (GSLV-F9) का इस्तेमाल किया गया। यह GSLV श्रृंखला की 11वीं उड़ान थी।

 उल्लेखनीय है कि दक्षेस देशों का गठजोड़ मजबूत करने तथा अपनी अंतरिक्ष कूटनीति की पहल करते हुए भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जुलाई 2014 में एक ऐसे संयुक्त उपग्रह का प्रस्ताव रखा था जिसका इस्तेमाल क्षेत्र के सभी देश अपनी तमाम आवश्यकताओं के लिए कर सकें। लेकिन पाकिस्तान ने इस प्रयास का हिस्सा बनने से इंकार कर दिया तथा वर्तमान में इसमें अन्य सभी दक्षेस देश शामिल हैं  (अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका)।

 इस सफल प्रक्षेपण के बाद इन सभी देशों के राष्ट्राध्यक्षों के साथ प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कांन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस उपलब्धि का जश्न मनाया।

 उल्लेखनीय है कि जीसैट-9 का इस्तेमाल दक्षिण एशिया क्षेत्र में दूरसंचार, आपदा प्रबन्धन, प्रसारण, डीटूएच सेवाओं, इंटरनेट, टेली-शिक्षा तथा टेली-मेडिसिन जैसे उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जायेगा। समस्त देश इन सुविधाओं का इस्तेमाल नि:शुल्क कर सकेंगे। इस उपग्रह के विकास तथा उसके प्रक्षेपण का पूरा खर्च भारत ने वहन किया है।

…………………………………………………………….

2) 4 मई 2017 को जारी स्वच्छ सर्वेक्षण रिपोर्ट 2017 (Swachh Survekshan 2017) के अनुसार इस वर्ष भारत का सबसे स्वच्छ शहर कौन सा है? – इंदौर (मध्य प्रदेश)

विस्तार: स्वच्छ सर्वेक्षण रिपोर्ट 2017 में मध्य प्रदेश का इंदौर (Indore) शहर देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित किया गया है। 434 शहरों की इस सूची में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) दूसरे स्थान पर है जबकि उत्तर प्रदेश का गोण्डा (Gonda) सबसे कम स्वच्छता वाले शहर के रूप में सामने आया है। शहरों में स्वच्छता की स्थिति का जायजा लेने वाली यह रिपोर्ट 4 मई 2017 को शहरी विकास मंत्रालय द्वारा जारी की गई।

 देश के सबसे स्वच्छ शहरों में आन्ध्र प्रदेश का विशाखापट्टनम (Vishakhapatnam) तीसरे स्थान पर है जबकि गुजरात का सूरत (Surat) चौथे स्थान पर है। वहीं पिछले साल की इस सूची में सर्वोच्च स्थान पर काबिज रहा कर्नाटक मैसूरू (Mysuru) इस बार खिसक कर पाँचवें स्थान पर पहुँच गया है। खास बात यह है कि देश के 50 सबसे स्वच्छ शहरों में गुजरात, मध्य प्रदेश और आन्ध्र प्रदेश के कुल 31 शहर शामिल हैं। इनमें 12 गुजरात में, 11 मध्य प्रदेश में और 8 आन्ध्र प्रदेश में हैं। वहीं तेलंगाना और तमिलनाडु दोनों के 4-4 शहर इसमें शामिल हैं जबकि महाराष्ट्र के 3 शहर टॉप 50 स्वच्छ शहरों में शामिल हैं।

 गुजरात, मध्य प्रदेश व आन्ध्र प्रदेश ने जहाँ अच्छा प्रदर्शन किया है वहीं झारखण्ड और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के शहरों में स्वच्छता के स्तर में काफी सुधार दर्ज हुआ है।

वर्ष 2017 में भारत के 10 सबसे स्वच्छ शहर

इंदौर, 2. भोपाल 3. विशाखापट्टनम 4. सूरत 5. मैसूरू 6. तिरुचिरापल्ली 7. नई दिल्ली महापालिका 8. नवी मुम्बई 9. तिरुपति और 10. वडोदरा।

…………………………………………………………….

3) राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा 5 मई 2017 को स्वीकृत उस अध्यादेश (Ordinance) का मुख्य उद्देश्य क्या है जिसके द्वारा बैंकिंग नियमन कानून, 1949 (Banking Regulation Act, 1949) में संशोधन किया जायेगा? – इससे देश के बैंकिंग क्षेत्र में व्याप्त गैर-निष्पादित परिसम्पत्तियों (NPAs) की समस्या को हल करने में आरबीआई (RBI) को अधिक शक्तियाँ मिल सकेंगी

विस्तार: देश में बैंकिंग क्षेत्र में व्याप्त गैर-निष्पादित परिसम्पत्तियों की समस्या के हल के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की शक्तियों में वृद्धि के लिए बैंकिंग नियमन कानून में संशोधन करने हेतु एक अध्यादेश को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली केन्द्रीय कैबिनेट ने अपनी मंजूरी प्रदान की थी। उस अध्यादेश को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 5 मई 2017 को अपनी स्वीकृत कर उसे वैधानिकता प्रदान कर दी।

 इन संशोधनों के द्वारा RBI को ऋण की अदायगी न कर पाने वाले कर्जदारों व कर्जदार कम्पनियों के खिलाफ दीवालिया संहिता (Insolvency and Bankruptcy Code 2016) के तहत कार्रवाई करने की शक्ति हासिल हो जायेगी। इससे आरबीआई गैर-निष्पादित परिसम्पत्तियों (non-performing assets – NPAs) के मामले के अधिक शीघ्रता से निपटाने में सक्षम होगा।

…………………………………………………………….

4) वाणिज्यिक विमानन (commercial aerospace) के क्षेत्र में पदार्पण करने के चीन (China) के सपने को उस समय पंख लग गए जब देश में निर्मित पहले यात्री जेट विमान (first Chinese-built passenger jetliner) की पहली सार्वजनिक उड़ान 5 मई 2017 को सफलतापूर्वक सम्पन्न हो गई। इस विमान का क्या नाम है जिसके द्वारा चीन यात्री विमानन की प्रमुख कम्पनियों बोइंग और एयरबस को भविष्य में टक्कर दे सकता है? – कॉमेक सी919 (Comac C919)

विस्तार: “कॉमेक सी919” (Comac C919) चीन में निर्मित पहले यात्री जेट विमान का नाम है। इस विमान का निर्माण कॉमर्शियल एयरक्राफ्ट कॉरपोरेशन ऑफ चाइना (Commercial Aircraft Corporation of China) ने किया है तथा इस कम्पनी का संक्षिप्त नाम “कॉमेक” (Comac) है।

 इस विमान की पहली सार्वजनिक उड़ान का आयोजन 5 मई 2017 को शंघाई (Shanghai) में किया गया। इस ऐतिहासिक उड़ान को देखने के लिए भारी संख्या में चीनी सरकारी अधिकारी तथा विमानन क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञ मौजूद थे। यह उड़ान लगभग एक घण्ट की थी तथा इसे पूर्णतया सफल घोषित किया गया। अब चीन भविष्य में दिग्गज विमान कम्पनियों जैसे अमेरिका की बोइंग (Boeing) और यूरोप की एयरबएस (Airbus) को भविष्य में टक्कर देने को तैयार लग रहा है।

 हालांकि कुछ विमानन विशेषज्ञों के अनुसार C919 अभी भी बोइंग व एयरबस द्वारा निर्मित विमानों के मुकाबले ईंधन किफायत तथा आसान रखरखाव जैसे पैमानों पर कई वर्ष पीछे है। अमेरिका तथा यूरोप के विमानन सुरक्षा नियामकों को अभी भी इस विमान को सुरक्षा प्रमाणन देना शेष है। इस प्रकार इस विमान को फिलहाल चीन के बाहर बेचना आसान नहीं होगा।

…………………………………………………………….

5) भारतीय फुटबॉल टीम ने 4 मई 2017 को फीफा (FIFA) द्वारा जारी वैश्विक फुटबॉल रैंकिंग्स में क्या अहम उपलब्धि हासिल की है? – भारतीय टीम पिछले 21 वर्षों में पहली बार 100वीं रैंकिंग पाने में सफल हुई है

विस्तार: फुटबॉल की वैश्विक संस्था फीफा (FIFA) द्वारा 4 मई 2017 को जारी वैश्विक रैंकिंग्स में भारत को कुल 331 अंकों के साथ 100वाँ स्थान हासिल हुआ। भारत को निकारागुआ, लिथुआनिया और एस्टोनिया के साथ 100वें स्थान पर रखा गया है।

 उल्लेखनीय है कि भारत इससे पहले सर्वोच्च 100 टीमों में स्थान बनाने में वर्ष 1996 में सफल रहा था जब उसे उस वर्ष 94वाँ स्थान हासिल हुआ था। यह फीफा वैश्विक रैंकिंग्स में भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ स्थान भी था।

…………………………………………………………….

 

http://www.churugurukul.com/current-affairs-03-04-may-2017