Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 07 - 10 Aug 2017

1) भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक महत्वपूर्ण अध्याय “भारत छोड़ो आंदोलन” (“Quit India Movement”) की 75वीं वर्षगाँठ 9 अगस्त 2017 को पूरे देश में मनाई गई। इस अवसर पर किस नाम के थीम (theme) को केन्द्र सरकार ने क्रियान्वित किया? – “संकल्प से सिद्धि”

विस्तार: उल्लेखनीय है कि हाल ही में प्रसारित अपने “मन की बात” रेडियो कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने “भारत छोड़ो आंदोलन” की 75वीं वर्षगाँठ को मनाने के लिए “संकल्प से सिद्धि” (नामक ध्येय वाक्य को थीम के रूप में चुनने की बात कही थी। इसी थीम को केन्द्र सरकार ने 9 अगस्त 2017 को इस ऐतिहासिक आंदोलन की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर क्रियान्वित किया।

अंदोलन के इस ऐतिहासिक पड़ाव को विशेष बनाने के लिए संसद के दोनों सदनों में एक विशेष सत्र का आयोजन किया गया। दोनों सदनों में प्रश्न-काल तथा शून्य काल को निलंबित रखा गया तथा सभी प्रमुख नेताओं ने अपने उद्गार प्रकट किए। वहीं राष्ट्रीय अभिलेखागार ने इस अवसर पर एक विशेष प्रदर्शनी आयोजित की।

उल्लेखनीय है कि “भारत छोड़ो आंदोलन” का नारा महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) ने 8 अगस्त 1942 को बंबई (Bombay) में अखिल भारतीय कांग्रेस के अधिवेशन के दौरान देकर अंग्रेजों को भारत छोड़ने का बिगुल फूँका था। यह आह्वान क्रिप्स मिशन (Cripps Mission) की असफलता के चलते दिया गया था क्योंकि गांधीजी का मानना था कि अंग्रेज भारत की समस्या को सुलझाने के प्रति गंभीर नहीं हैं। इस आह्वान के बाद 9 अगस्त 1942 से आम जनमानस इस आंदोलन में कूद पड़ा था।

……………………………………………………………

2) भारत ने 8 अगस्त 2017 को क्योटो संधि (Kyoto Protocol) की द्वितीय प्रतिबद्धता अवधि (second commitment period) को अपनाने की पुष्टि कर दी जिसके तहत दुनिया भर के देश ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को सीमित करने के प्रयास कर रहे हैं। इसके साथ ही भारत इस ऐतिहासिक संधि की द्वितीय प्रतिबद्धता अवधि को अपनाने से सम्बन्धित संशोधन को स्वीकार करने वाला कौन सा देश बन गया? – 80वाँ

विस्तार: संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैय्यद अकबरुद्दीन (Syed Akbaruddin) ने 8 अगस्त 2017 को घोषणा की कि भारत ने क्योटो संधि से जुड़े दोहा संशोधन (Doha Amendment) को स्वीकार करने से सम्बन्धित संधि दस्तावेज संयुक्त राष्ट्र में जमा कर दिया है। इस प्रकार भारत इस संशोधन को स्वीकार करने वाला 80वाँ देश बन गया है।

उल्लेखनीय है कि क्योटो संधि संयुक्त राष्ट्र की जलवायु परिवर्तन ढांचागत संधि (United Nations Framework Convention on Climate Change – UNFCCC) से जुड़ा एक अंतर्राष्ट्रीय समझौता है जिसमें दुनिया भर के देशों को उत्सर्जन को कम करने के लिए तय लक्ष्यों को अपनाने के लिए प्रतिबद्ध किया गया है।

क्योटो संधि को जापान के क्योटो शहर में दिसम्बर 1997 में हस्ताक्षरित किया गया था जबकि यह फरवरी 2005 से प्रभाव में आई थी। संधि के तहत प्रथम प्रतिबद्धता अवधि (first commitment period) 2008 से 2012 के बीच में थी। वहीं संधि से जुड़े दोहा संशोधन (Doha Amendment) को कतर के दोहा (Doha) शहर में दिसम्बर 2012 में अपनाया गया था।

……………………………………………………………

3) 8 अगस्त 2017 को की गई घोषणा के अनुसार स्वास्थ्य (Health) व शिक्षा (Education) क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन क्रियान्वित करने के लिए नीति आयोग (Niti Aayog) ने किन तीन राज्यों का चयन किया है? – स्वास्थ्य क्षेत्र में उत्तर प्रदेश, असम और कर्नाटक तथा शिक्षा क्षेत्र में मध्य प्रदेश, ओडीशा और झारखण्ड

विस्तार: नीति आयोग (Niti Aayog) द्वारा स्वास्थ्य व शिक्षा क्षेत्रों में आमूलचूल परिवर्तन लाने हेतु एक महत्वाकांक्षी योजना क्रियान्वित किए जाने के सम्बन्ध में स्वास्थ्य क्षेत्र हेतु उत्तर प्रदेश, असम और कर्नाटक जबकि शिक्षा क्षेत्र के लिए मध्य प्रदेश, ओडीशा और झारखण्ड का चयन किया गया है। इन 6 राज्यों का चयन एक कड़ी प्रतिस्पर्धात्मक चयन प्रक्रिया के बाद किया गया है।

नीति आयोग द्वारा 8 अगस्त 2017 को की गई घोषणा के अनुसार इस चयन के लिए राज्यों ने दोनों वर्गों के लिए प्रज़न्टेशन प्रस्तुत किए थे। इसमें राज्यों ने इन क्षेत्रों में किए जा रहे प्रयासों, तेजी से काम करने की प्रतिबद्धता तथा नीति आयोग द्वारा चयनित किए जाने के कारणों का विस्तार से उल्लेख किया था।

……………………………………………………………

4) पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने 8 अगस्त 2017 को देश भर के 1.4 लाख ग्रामीण परिवारों से एकत्रित उन सर्वे (Survey) आंकड़ों को जारी कर दिया जिन्हें मई व जून 2017 के दौरान भारतीय गुणवत्ता परिषद (Quality Council of India – QCI) द्वारा एकत्रित किया गया था। इस सर्वे के परिणामों के अनुसार देश के ग्रामीण अंचल (rural areas) में कितने प्रतिशत परिवारों के पास शौचालय (toilet) की सुविधा उपलब्ध है? – 62.45%

विस्तार: भारतीय गुणवत्ता परिषद (Quality Council of India – QCI) के इस स्वच्छता सर्वे में देश के सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों के 4626 गाँवों से एकत्रित आंकडे के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला गया है कि 62.45% परिवारों के पास शौचालय (toilet) की सुविधा उपलब्ध है। सर्वे में यह निष्कर्ष भी निकाला गया है कि शौचालय सुविधा वाले 91.25% परिवार इनका प्रयोग भी करते हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि ग्रामीण अंचलों की शौचालय-सम्बन्धी प्रवृत्तियों में अब परिवर्तन आ रहा है।

जहाँ तक शौचालय की उपलब्धता की बात है तो उत्तर-पूर्व के तीन राज्य सिक्किम (Sikkim), मणिपुर (Manipur) और नगालैण्ड (Nagaland) 95% उपलब्धता के साथ इस मामले में सबसे आगे हैं। वहीं ग्रामीण अंचलों में मात्र 30% शौचालयों के साथ बिहार (Bihar) तथा 37% उपलब्धता के साथ उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) इस मामले में सबसे पिछड़े हैं।

……………………………………………………………

5) विद्युत उत्पादकों को कोयला वितरण हेतु एक कार्यकुशल तथा पारदर्शी नीति लाने वाला देश का पहला राज्य कौन सा बन गया है जिसने वित्तीय दुश्वारियाँ झेल रही तथा ऊर्जा-कुशल कम्पनियों को लाभ पहुँचाने की कोशिश की है? – गुजरात (Gujarat)

विस्तार: गुजरात (Gujarat) देश का ऐसा पहला राज्य बन गया है जिसने कोयला वितरण में ऊर्जा-कुशल विद्युत उत्पादकों को तरजीह देने वाली नीति क्रियान्वित की है। 8 अगस्त 2017 को गुजरात राज्य सरकार द्वारा जारी एक निविदा (tender) के अनुसार राज्य सरकार अपने कोटे के सस्ते कोयले को तापीय-विद्युत संयंत्रों (thermal power plants) को आवंटित करेगी तथा इसके एवज में इन संयंत्रों से 2 रुपया 82 पैसे प्रति यूनिट (Rs. 2.82 per unit) से कम के मूल्य पर बिजली की खरीद करेगी।

इस निविदा के द्वारा गुजरात राज्य विद्युत निगम अपने स्वामित्व वाले कोयले को अधिक ऊर्जा कार्यकुशल निजी विद्युत संयंत्रों को स्थानांतरित कर सकेगा। वहीं सितम्बर 2017 में सरकार एक रिवर्स निविदा (reverse tender) लायेगी जिसके द्वारा ऊर्जा उत्पादकों से सरकार एक हजार मेगावॉट (1000 Mw) बिजली खरीदेगी। इस निविदा में सफल कम्पनियाँ 1 अक्टूबर 2017 से 30 जून 2018 के बीच राज्य सरकार को बिजली बेचेंगी।

गुजरात सरकार की यह नीति केन्द्र सरकार की उस मुहिम के तहत है जिसमें समस्याएं झेल रहे विद्युत संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति सुनिश्चित करने तथा कार्यकुशल उत्पादकों को लाभ देने की कोशिश की गई है।

……………………………………………………………

6) 5 अगस्त 2017 को सम्पन्न हुए भारत के उप-राष्ट्रपति (Vice-President) पद के चुनाव में एम. वैंकय्या नायडू (M. Venkaiah Naidu) ने अपने प्रतिद्वन्दी गोपाल कृष्ण गांधी (Gopalkrishna Gandhi) को काफी आसानी से पराजित कर देश के 13वें उप-राष्ट्रपति बनने का धिकार हासिल कर लिया। इस प्रकार वे इस पद को हासिल करने वाले दूसरे भाजपा (BJP) सदस्य हो गए हैं। यह गौरव हासिल करने वाले पहले भाजपा सदस्य कौन थे? – भैरों सिंह शेखावत (Bhairon Singh Shekhawat)

विस्तार: भैरों सिंह शेखावत (Bhairon Singh Shekhawat) पहले भाजपा सदस्य थे जिन्हें देश का उप-राष्ट्रपति बनने का गौरव हासिल हुआ था। उन्होंने वर्ष 2002 में हुए उप-राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस के सुशील कुमार शिंदे (Sushil Kumar Shinde) को पराजित किया था।

5 अगस्त 2017 को हुए उप-राष्ट्रपति चुनाव में केन्द्र सरकार ने विपक्ष के साझा उम्मीदवार गोपाल कृष्ण गांधी के खिलाफ एम. वैंकय्या नायडू को खड़ा किया था। इस चुनाव में नायडू को जहाँ 516 मत मिले वहीं गोपाल कृष्ण गांधी मात्र 244 मत हासिल कर उनसे काफी पीछे रह गए। नायडू को मिले मत पिछले 44 वर्षों में किसी उप-राष्ट्रपति उम्मीदवार को मिले सर्वाधिक मत थे। 1974 में उप-राष्ट्रपति चुनाव जीते बी.डी. जत्ती (B.D. Jatti) को ही उनसे अधिक 521 मत मिले थे। वहीं नायडू को मिले कुल मतों का प्रतिशत (67.9%) भी पिछले 30 वर्षों का सर्वाधिक रहा।

नायडू देश के पहले ऐसे उप-राष्ट्रपति होंगे जिनका जन्म देश की स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद हुआ है।

……………………………………………………..

7) नीति आयोग (NITI Aayog) का उपाध्यक्ष (Vice-Chairman) पद छोड़ने वाले अरविन्द पनगड़िया (Arvind Panagariya) के स्थान पर 5 अगस्त 2017 को किसे अगला उपाध्यक्ष नामित किया गया? – राजीव कुमार (Rajiv Kumar)

विस्तार: वरिष्ठ अर्थशास्त्री राजीव कुमार (Rajiv Kumar), जोकि सेण्टर फॉर पॉलिसी रिसर्च (Centre for Policy Research – CPR) में सीनियर फेलो (Senior Fellow) हैं, नीति आयोग के अगले उपाध्यक्ष होंगे। वे अरविन्द पनगड़िया का स्थान लेंगे।

राजीव कुमार ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र (Economics) में डी.फिल. (D.Phil.) हासिल की है जबकि लखनऊ विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में ही पी.एचडी. (Ph.D.) की उपाधि हासिल की है। वे औद्यौगिक संगठन फिक्की (FICCI) के महासचिव रह चुके हैं जबकि उनका जुड़ाव एक और औद्यौगिक संगठन एफ.आई.आई. (CII) से भी रहा है। इसके अलावा उन्होंने Indian Council for Research on International Economic Relations (ICRIER) में निदेशक (Director) तथा मुख्य कार्यकारी (CEO) की भूमिका भी निभाई है।

नीति आयोग के उपाध्यक्ष की यह नियुक्ति करने की आवश्यकता इसलिए पड़ी है क्योंकि जनवरी 2015 से इस पद पर काबिज वरिष्ठ अर्थशास्त्री अरविन्द पनगड़िया ने 1 अगस्त 2017 को घोषणा की थी कि वे 31 अगस्त 2017 से इस पद को छोड़ देंगे तथा एक बार फिर अमेरिका की कोलम्बिया यूनीवर्सिटी (Columbia University) के साथ जुड़ जायेंगे।

……………………………………………………..

8) पाकिस्तान (Pakistan) के मंत्रिमण्डल में स्थान बनाने वाले उस मंत्री का क्या नाम है पिछले 2 दशकों में पाकिस्तान में केन्द्रीय बनने वाला पहला हिन्दू राजनीतिज्ञ है? – दर्शन लाल (Darshan Lal)

विस्तार: पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी (Shahaid Khaqan Abbasi) ने 4 अगस्त 2017 को अपने मंत्रिमण्डल की घोषणा की। इसमें सिंध (Sindh) के हिन्दू राजनीतिज्ञ दर्शन लाल (Darshan Lal) का नाम भी शामिल था तथा इस प्रकार वे 20 सालों में पाकिस्तानी कैबिनेट में मंत्री नियुक्त किए जाने वाले पहले हिन्दू हैं।

दर्शन लाल को नए केन्द्रीय मंत्रिमण्डल में चार प्रांतों – पंजाब, सिंध, खैबर, पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान में संयोजन की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्हें वर्ष 2013 में पाकिस्तान की राष्ट्रीय एसेम्बली (National Assembly) के लिए दूसरी बार निर्वाचित किया गया था। वे सत्ताधारी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) – PML (N) के टिकट पर चुने गए थे।

उल्लेखनीय है कि पूर्व में दो हिन्दुओं को पाकिस्तानी केन्द्रीय कैबिनेट में स्थान मिला था। जोगेन्द्र नाथ मण्डल (Jogendra Nath Mandal) जहाँ पाकिस्तान के पहले कानून मंत्री थे वहीं राणा चन्दर सिंह (Rana Chander Singh) बेनज़ीर भुट्टो के मंत्रिमण्डल में शामिल थे।

……………………………………………………..

9) किस नौकरशाह को 6 अगस्त 2017 को विश्व बैंक (World Bank) में कार्यकारी निदेशक (Executive Director) नियुक्त किया गया है? – एस. अपर्णा (S. Aparna)

विस्तार: वरिष्ठ नौकरशाह एस. अपर्णा (S. Aparna), जोकि 1988-बैच की गुजरात कैडर की आईएएस (IAS) अधिकारी हैं, को 6 अगस्त 2017 को विश्व बैंक (World Bank) की कार्यकारी निदेशक (Executive Director) नियुक्त किया गया है। वे वर्तमान में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की मुख्य सचिव हैं तथा अपनी नई नियुक्ति में वे अमेरिका में तैनात रहेंगी।

कार्यकारी निदेशक के तौर पर वे विश्व बैंक में भारत, बांग्लादेश, भूटान और श्रीलंका का प्रतिनिधित्व करेंगे। वे एस.सी. गर्ग (SC Garg) का स्थान ले रही हैं जिन्हें केन्द्रीय वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के विभाग (Department of Economic Affairs) में सचिव (Secretary) नियुक्त किया गया है।

……………………………………………………..

10) जमैका के दिग्गज धावक यूसेन बोल्ट (Usain Bolt) अपने करियर की अंतिम 100 मीटर फर्राटा दौड़ को जीतने में असफल रहे। 5 अगस्त 2017 को लंदन की IAAF विश्व चैम्पियनशिप में हुई इस स्पर्धा को किसने जीता? – जस्तिन गैटलिन (Justin Gatlin)

विस्तार: अमेरिका (US) के जस्टिन गेटलिन (Justin Gatlin) ने जमैका (Jamaica) के दिग्गज यूसेन बोल्ट (Usain Bolt) के सपने को चकनाचूर करते हुए लंदन में चल रही आई.ए.ए.एफ. (IAAF) विश्व चैम्पियनशिप में 5 अगस्त 2017 को हुई पुरुष 100 मीटर फर्राटा दौड़ को 9.90 सेकेण्ड में पूरा कर स्वर्ण पदक जीता। एक और अमेरिकी धावक क्रिश्चियन कोलमैन (Christian Coleman) ने 9.94 सेकेण्ड का समय लेकर दूसरा स्थान हासिल किया।

वहीं यूसेन बोल्ट 9.95 सेकेण्ड का समय लेकर तीसरे स्थान पर रहे। बोल्ट की शुरूआत बेहद खराब रही तथा वे इसकी भरपाई नहीं कर पाए। उल्लेखनीय है कि गैटलिन ने 2005 की IAAF विश्व चैम्पियनशिप में 100 मीटर फर्राटा दौड़ जीती थी। लेकिन बाद में मादक द्रव्यों के सेवन के आरोपों में उनपर दो बार प्रतिबन्ध लगाया गया।

इस हार के साथ बोल्ट ने अपनी सर्वप्रिय स्पर्धा 100 मीटर फर्राटा दौड़ को अलविदा कह दिया क्योंकि सन्यास लेने से पूर्व यह उनकी अंतिम 100 मीटर दौड़ थी। हालांकि उनके करियर की अंतिम स्पर्धा 4 गुणा 100 मीटर रिले दौड़ होगी जो 12 अगस्त को होगी।

……………………………………………………..

11) भारतीय पेशेवर मुक्केबाज विजेन्दर सिंह (Vijender Singh) ने 5 अगस्त 2017 को किस चीनी मुक्केबाज को हराकर अपने करियर की लगातार नौंवी जीत दर्ज करने के साथ ही दूसरा खिताब जीतने में सफलता हासिल की? – ज़ुल्पिकार मैमैतिअली (Zulpikar Maimaitiali)

विस्तार: मुम्बई में 5 अगस्त 2017 को हुए मुकाबले में विजेन्दर सिंह (Vijender Singh) ने अपने प्रोफेशनल करियर के नौंवे मुकाबले में चीन के मुक्केबाज ज़ुल्पिकार मैमैतिअली (Zulpikar Maimaitiali) को अंकों के आधार पर हराकर डब्ल्यूबीओ ओरियण्टल सुपर मिडिलवेट (WBO Oriental super middleweight) खिताब जीत लिया। उल्लेखनीय है कि इस जीत के साथ वे अपने सभी नौ मुकाबले जीतकर अविजेय बने हुए हैं।

हालांकि यह मुकाबला काफी करीबी रहा तथा निर्णायकों ने विजेन्दर के पक्ष में 96-93, 95-94, 95-94 से निर्णय दिया।

डब्ल्यूबीओ ओरियण्टल सुपर मिडिलवेट खिताब विजेन्दर के करियर का दूसरा प्रोफेशनल खिताब है। इससे पहले उन्होंने जुलाई 2016 में ऑस्ट्रेलिया के कैरी होप (Karry Hope) को हराकर डब्ल्यूबीओ एशिया पैसिफिक सुपर मिडिलवेट (WBO Asia Pacific super middleweight) खिताब अपने नाम किया था।

……………………………………………………..

 

http://churugurukul.com/?q=current-affairs-03-06-aug-2017