Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 11 Dec to 16 Dec 2017

1) स्वदेशी तकनीक से भारत में निर्मित पहली स्कोर्पीन-श्रेणी की उस पनडुब्बी (first indigenous Scorpene class submarine) का क्या नाम है जिसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 14 दिसम्बर 2017 को भारतीय नौसेना में शामिल कराया? – आईएनएस कल्वारी (INS Kalvari)

विस्तार: आईएनएस कल्वारी (INS Kalvari) भारत में निर्मित उस पहली तथा अत्यधिक आधुनिक स्कोर्पीन-श्रेणी की पनडुब्बी का नाम है जिसे भारतीय नौसेना (Indian Navy) में 14 दिसम्बर 2017 को विधिवत शामिल कराया गया। मुम्बई में हुए एक कार्यक्रम में यह पनडुब्बी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा भारतीय नौसेना में शामिल करायी गई।

गहरे समुद्र में रहने वाली एक टाइगर शार्क के नाम पर इस 1600 टन वजन वाली पनडुब्बी को कल्वारी (Kalvari) नाम दिया गया है। इसका परिचालन एक बेहद शांत डीज़ल-इलेक्ट्रिक मोटर द्वारा किया जाता है तथा समुद्र में इसकी उपस्थिति का पता लगाना बेहद कठिन होता है। स्व-रक्षा के लिए इसमें मोबाइल टॉरपीडो-रोधी डिकॉय (mobile anti-torpedo decoys) लगाए गए हैं। उल्लेखनीय है कि भारतीय नौसेना में शामिल की गई अंतिम डीज़ल-इलेक्ट्रिक से परिचालित होने वाली पनडुब्बी आईएनएस सिंधुशस्त्र (INS Sindhushastra) थी लेकिन इसे वर्ष 2000 में रूस से हासिल कर नौसेना में शामिल किया गया था।

स्वदेशी तकनीक से कुल 6 स्कोर्पीन-श्रेणी की पनडुब्बियों का निर्माण मुम्बई स्थित मझगाँव डॉक लिमिटेड (Mazagon Dock Limited) में भारतीय नौसेना की “प्रोजेक्ट-75” (Project-75) नामक परियोजना के तहत किया जा रहा है तथा इसमें फ्रांस की कम्पनी डीसीएनएस (DCNS) की तकनीकी मदद ली जा रही है। परियोजना के तहत बनाई जाने वाली शेष 5 पनडुब्बियों को कम्पनी द्वारा नौसेना को वर्ष 2020 तक सौंप दिए जाने की संभावना है।

उल्लेखनीय है कि भारतीय नौसेना के पास वर्तमान में सिर्फ 15 पनडुब्बियाँ हैं, जिसमें मुख्य रूप से रूस की किलो-श्रेणी (Kilo class) व जर्मनी की एचडीडब्ल्यू (HDW) पनडुब्बियाँ शामिल हैं। वहीं चीन के पास भारत से चार गुना अधिक पनडुब्बियाँ हैं। स्कॉर्पीन श्रेणी की अगली भारत-निर्मित पनडुब्बी आईएनएस खानदेरी (INS Khanderi) है जिसपर वर्तमान में समुद्री परीक्षण चल रहे हैं।

………………………………………………………………………

2) 8 दिसम्बर 2017 को किस रेलवे स्टेशन को “A1” श्रेणी का भारतीय रेल का पहला ऊर्जा कार्यकुशल स्टेशन (first Energy Efficient ‘A1 Category’ Railway Station of Indian Railways) घोषित किया गया? – काचिगुडा (हैदराबाद)

विस्तार: दक्षिण-मध्य रेलवे के तहत आने वाले हैदराबाद शहर के काचिगुडा (Kacheguda) रेलवे स्टेशन को 8 दिसम्बर 2017 को “A1” श्रेणी का भारतीय रेल का पहला ऊर्जा कार्यकुशल स्टेशन (Energy Efficient Station) घोषित किया गया।

इस स्टेशन को 100% ऊर्जा कार्यकुशल बनाने के लिए 1,312 परंपरागत विद्युत लाइटों के स्थान पर एलईडी लाइट (LED lamps) लगाई गईं, 370 सीलिंग पंखों को हटाकर उनके स्थान पर कम बिजली खपत करने वाले कार्यकुशल पंखे लगाए गए जबकि 12 अधिक खपत वाले एयर कंडीशनरों के स्थान पर कार्यकुशल इन्वर्टर एसी लगाए गए। इन सब उपायों से प्रतिवर्ष 1.76 लाख यूनिट बिजली की बचत होगी जिससे प्रतिवर्ष बिजली का बिल लगभग 14 लाख रुपए कम आयेगा।

उल्लेखनीय है कि काचिगुडा स्टेशन हैदराबाद शहर के बीचोंबीच स्थित है तथा इस भव्य इमारत के निर्माण के 100 वर्ष 2016 में पूरे हुए। इसका निर्माण हैदराबाद के सातवें निज़ाम मीर उस्मान अली खान (Mir Osman Ali Khan) के युग में उनकी गारंटीड स्टेट रेलवे कम्पनी (Guaranteed State Railway Co.) द्वारा कराया गया था।

………………………………………………………………………

3) श्रीलंका (Sri Lanka) सरकार ने दिसम्बर 2017 के दौरान अपना कौन सा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण बंदरगाह चीन (China) को 99-वर्ष के पट्टे पर सौंप दिया? – हम्बनटोटा (Hambantota)

विस्तार: चीनी कम्पनियों को ऋण वापसी में दिक्कत का सामना कर रही श्रीलंका सरकार ने चीन को अपना रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण बंदरगाह हम्बनटोटा (Hambantota) 99 वर्ष के पट्टे पर दिसम्बर 2017 के दौरान दे दिया है। श्रीलंका के इस कदम को तमाम अंतर्राष्ट्रीय टीकाकारों और विशेषज्ञों ने उसकी संप्रभुता के लिए खतरनाक बताया है। साथ ही इससे श्रीलंका के भारत के साथ के सम्बन्धों के लिए भी घातक माना जा रहा है।

चीन ने पिछले काफी समय से हिन्द महासागर में अपनी उपस्थिति को मजबूत करने तथा अपनी महात्वाकांक्षी “वन बेल्ट, वन रोड” (“One Belt, One Road”) योजना को आगे बढ़ाने के लिए इस क्षेत्र में बंदरगाहों तथा जहाजरानी संरचना में अरबों डॉलर का निवेश किया है।

इस मुद्दे पर श्रीलंका के राजनीतिज्ञों के अनुसार 1.1 अरब डॉलर ($1.1 billion) की कीमत वाले हम्बनटोटा बंदरगाह को चीन को प्रदान करने के निर्णय को देश के चीन पर बढ़ते हुए वित्तीय बोझ के देखते हुए एक ठीक कदम माना है।

………………………………………………………………………

4) कौन सा राज्य केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तुत किए गए उस मसौदा विधेयक (Draft Bill) को अपनी मंजूरी प्रदान करने वाला देश का पहला राज्य बना जिसमें तीन बार तलाक कह कर तलाक देने की प्रथा (Triple Talaq) को संज्ञेय व अपराध गैर-जमानती अपराध के तहत लाने की कोशिश की गई है? – उत्तर प्रदेश

विस्तार: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) देश का पहला राज्य बन गया जिसने केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तुत किए गए उस मसौदा विधेयक को अपनी मंजूरी प्रदान करने की घोषणा की है जिसके तहत किसी मुस्लिम पति द्वारा अपनी पत्नी को तीन बार तलाक शब्द का उच्चारण कर तलाक देने की कोशिश करने पर तीन वर्ष तक के कारावास व जुर्माने का प्रावधान किया गया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में 5 दिसम्बर 2017 को हुई एक कैबिनेट बैठक में कैबिनेट ने केन्द्र सरकार के इस विधेयक को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी।

इसके साथ ही इस महात्वाकांक्षी मसौदा विधेयक को स्वीकृति प्रदान करने वाला उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य बन गया। “मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक” (‘Muslim Women Protection of Rights on Marriage Bill’) नामक इस विधेयक को केन्द्र सरकार ने देश के सभी राज्यों में विचारार्थ भेजा है क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा इस प्रथा को अवैध करार दिए जाने के बावजूद देश इसका इस्तेमाल बदस्तूर जारी है।

सर्वोच्च न्यायालय ने 22 अगस्त 2017 को दिए अपने ऐतिहासिक आदेश में “तीन तलाक” (“Triple Talaq”) की प्रथा को अवैध करार दिया था और कहा था कि यह प्रथा असंवैधानिक तथा संविधान के अनुच्छेद 14 (Article 14) के खिलाफ है जो विधि के समक्ष सबको समानता प्रदान करता है।

………………………………………………………………………

5) राजनीतिज्ञों से सम्बन्धित लंबित न्यायिक मामलों की सुनवाई के लिए केन्द्र सरकार कितने विशेष न्यायालय (Special Court) स्थापित करने जा रही है, जिस प्रस्ताव को सर्वोच्च न्यायालय ने 14 दिसम्बर 2017 को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी? – बारह (12)

विस्तार: केन्द्र सरकार ने 12 दिसम्बर 2017 को सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) को एक हलफनामे के द्वारा सूचित किया कि वह देश भर में राजनीतिज्ञों के खिलाफ लम्बित मामलों की त्वरित सुनवाई के लिए 12 विशेष न्यायालयों की स्थापना करने जा रही है। इसके लिए केन्द्र सरकार ने 7.8 करोड़ रुपए जारी करने की घोषणा भी की।

उल्लेखनीय है कि सर्वोच्च न्यायालय ने 1 नवम्बर 2017 को केन्द्र सरकार को निर्देश दिया था कि वह उसे 1,581 सांसदों (MPs) व विधायकों (MLAs) के खिलाफ चल रही न्यायिक कार्यवाई की जानकारी प्रदान करे। इतने राजनीतिज्ञों ने वर्ष 2014 के आम चुनावों में अपने पर्चे दाखिल करते समय अपने खिलाफ चल रहे न्यायिक मामलों की जानकारी दी थी।

14 दिसम्बर 2017 को सर्वोच्च न्यायालय ने केन्द्र सरकार द्वारा 12 विशेष फास्ट ट्रैक न्यायालय स्थापित करने के प्रस्ताव को अपनी मंजूरी भी प्रदान कर दी।

………………………………………………………………

6) विश्व व्यापार संगठन (WTO) के 11वें मंत्रीस्तरीय सम्मेलन का आयोजन 10 से 13 दिसम्बर 2017 के बीच किस स्थान पर किया गया? – ब्यूनस आयर्स (अर्जेन्टीना)

विस्तार: विश्व व्यापार संगठन (World Trade Organisation – WTO) के 11वें मंत्रीस्तरीय सम्मेलन (Eleventh Ministerial Conference (MC11) का आयोजन अर्जेन्टीना (Argentina) की राजधानी ब्यूनस आयर्स (Buenos Aires) में 10 से 13 दिसम्बर 2017 के बीच किया गया। इसकी अध्यक्षता अर्जेन्टीना की वाणिज्य मंत्री सुसाना माल्कोरा (Susana Malcorra) ने की।

यह सम्मेलन 13 दिसम्बर 2017 को बिना किसी अहम फैसले पर पहुँचे ही समाप्त हो गया क्योंकि इस 164-सदस्यीय बहुपक्षीय संगठन (WTO) के सदस्य तमाम अहम मसलों पर एक राय कायम नहीं कर पाए। सम्मेलन में अमेरिका (US) द्वारा खाद्य सुरक्षा (food security) की समस्या के हल के तौर पर सुझाए जा रहे सार्वजनिक स्टॉकहोल्डिंग (public stockholding) के उपाय को ब्लॉक किए जाने के बाद भारत ने भी ई-कॉमर्स और निवेश सुविधा जैसे तमाम नए मुद्दों पर अपने रुख को कड़ा कर लिया।

इस स्थिति में सम्मेलन के अंत तक किसी अहम मुद्दे पर सर्वसम्मति न हो पाने के बाद अध्यक्ष सुसाना माल्कोरा ने सम्मेलन का सार 13 दिसम्बर 2017 को प्रस्तुत किया जिसकी सिफारिशें लागू नहीं की जा सकती हैं।

………………………………………………………………

7) अमेरिका के केन्द्रीय बैंक फेडरल रिज़र्व (US Federal Reserve) ने 13 दिसम्बर 2017 को हुई अपनी मौद्रिक नीति बैठक में महत्वपूर्ण बेंचमार्क ब्याज दर (benchmark interest rate) में 25 आधार अंकों (25 bps) की वृद्धि कर दी। इस बैठक की एक विशेषता क्या थी? – यह फेडरल रिज़र्व की निवर्तमान प्रमुख जेनेट येलेन (Janet Yellen) की अध्यक्षता में हुई संस्था की संभवत: अंतिम बैठक थी

विस्तार: अमेरिकी फेडरल रिज़र्व की प्रमुख जेनेट येलेन (Janet Yellen) ने 13 दिसम्बर 2017 को संभवत: इस संस्था की अंतिम बैठक की अध्यक्षता की जिसमें सबसे महत्वपूर्ण मानी जाने वाली दर बेंचमार्क ब्याज दर में 25 आधार अंकों की वृद्धि करने का अहम फैसला लिया गया। उल्लेखनीय है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जेरॉम पॉवेल (Jerome Powell) को रिज़र्व का अगला प्रमुख नामित किया है तथा यदि अमेरिकी सीनेट (Senate) ने इस फैसले को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी तो वे जेनेट येलेन के 3 फरवरी 2018 को समाप्त हो रहे कार्यकाल के बाद फेडरल रिज़र्व के अगले प्रमुख बनेंगे।

ब्याज दर को 25 आधार अंक बढ़ाने का फैसला 2 के मुकाबले 7 मतों से लिया गया तथा यह रिज़र्व द्वारा इस वर्ष ब्याज दर में की गई तीसरी वृद्धि थी। इसके अलावा रिज़र्व ने वर्ष 2018 के लिए अपने आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान में भी बढ़ोतरी कर दी।

………………………………………………………………

8) दिसम्बर 2017 के दौरान कौन सा राज्य हिंदी भाषा में ई-मेल आईडी की सेवा प्रदान करने वाला देश का पहला राज्य जिसके चलते हिंदी-भाषी नागरिकों को काफी लाभ मिलने की संभावना है? – राजस्थान (Rajasthan)

विस्तार: अंग्रेजी भाषा होने के कारण ई-मेल सेवा का लाभ न उठा पाने वाले नागरिकों को ध्यान में रखकर राजस्थान (Rajasthan) की राज्य सरकार ने 3 दिसम्बर 2017 को अपनी हिंदी ई-मेल आईडी सेवा शुरू की। इसके चलते देवनागरी लिपि में ई-मेल आईडी बनाना तथा प्रयोग में लाना संभव हो गया है। उदाहरण के लिए – नाम@राजस्थान.भारत जैसी ई-मेल आईडी बनाई जा सकेंगी।

इसके साथ ही राजस्थान देश प्रकार की सेवा अपने नागरिकों को प्रदान करने वाला राजस्थान देश का पहला राज्य बन गया है। इस सेवा के तहत पहली ई-मेल आईडी राज्य की मुख्यमंत्री की बनाई गई – वसुंधरा@राजस्थान.भारत। अब राज्य के सभी सरकारी कर्मचारियों को इसी प्रकार देवनागरी लिपि में ई-मेल आईडी उपलब्ध कराने की राज्य की योजना है।

यहाँ उल्लेखनीय है कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम बीएसएनएल (BSNL) ने दिसम्बर 2016 के दौरान भारत की आठ भाषाओं में ई-मेल आईडी बनाने की सुविधा उपलब्ध कराई थी। लेकिन राजस्थान की इस सेवा की खासियत यह है कि यह सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध है।

………………………………………………………………

9) 14 दिसम्बर 2017 को मुम्बई में सम्पन्न मि. इण्डिया प्रतियोगिता में किसे पीटर इंग्लैण्ड मि. इण्डिया 2017 (Peter England Mr. India 2017) चुना गया? – जितेश सिंह देव (Jitesh Singh Deo)

विस्तार: लखनऊ के जितेश सिंह देव (Jitesh Singh Deo) को मि. इण्डिया 2017 चुना गया है। 14 दिसम्बर 2017 को मुम्बई के बान्द्रा फोर्ट में सम्पन्न हुई मि. इण्डिया प्रतियोगिता में उन्होंने 15 अन्य प्रतिभागियों को पछाड़ते हुए पीटर इंग्लैण्ड मि. इण्डिया 2017 (Peter England Mr. India 2017) का प्रतिष्ठित खिताब अपने नाम किया।

जितेश जहाँ पहले स्थान पर रहे वहीं प्रथमेश मौलिंगकर (Prathamesh Maulingkar) को पीटर इंग्लैण्ड मि. सुप्रानेशनल 2017 खिताब से नवाजा गया। अभी खजूरिया (Abhi Khajuria) को पीटर इंग्लैण्ड मि. इण्डिया फर्स्ट रन अप और पवन राव (Pavan Rao) को पीटर इंग्लैण्ड मि. इण्डिया सेकेण्ड रनर अप चुना गया। विजेताओं को सुप्रसिद्ध अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने पुरस्कृत किया।

………………………………………………………………

http://churugurukul.com/current-affairs-01-dec-10-dec-2017