Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 13 - 14 February 2017

1) हिन्दुस्तान मोटर्स (Hindustan Motors) ने अपने सुप्रसिद्ध कार ब्राण्ड “एम्बेसडर” (‘Ambassador’) को किस फ्रांसीसी ऑटोमोबाइल कम्पनी को बेचने की घोषणा 11 फरवरी 2017 को की? – पुरज़ो एसए (Peugeot SA)

विस्तार: भारतीय ऑटोमोबाइल कम्पनी हिन्दुस्तान मोटर्स (HM) ने अपने प्रसिद्ध कार ब्राण्ड “एम्बेसडर” (‘Ambassador’) को फ्रांसीसी ऑटोमोबाइल कम्पनी पुरज़ो एसए (Peugeot SA) को 80 करोड़ रुपए में बेचने की घोषणा 11 फरवरी 2017 को की। इसके साथ ही पुरज़ो ने भारतीय ऑटोमोबाइल बाजार में पुन: अपनी वापसी करने के लिए सीके बिड़ला समूह से समझौता भी किया।

 उल्लेखनीय है कि एम्बेसडर कार का स्वामित्व सी.के. बिड़ला समूह (C.K. Birla) के पास था तथा इसका निर्माण कोलकाता के बाहरी इलाके में उत्तरपाड़ा (Uttarpara) स्थित कारखाने में किया जाता था। यह कार भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग की एक ऐतिहासिक धरोहर रही है। यह कार ब्रिटेन की मॉरिस ऑक्सफोर्ड (Morris Oxford) कार के मॉडल पर आधारित थी तथा इसका उत्पादन 1958 में शुरू किया गया था। एक समय यह कार भारतीय समाज में अपने मालिक के उच्च सामाजिक स्थान की प्रतीक बन कर उभरी थी। इसके अलावा यह राजनेताओं की पहली पसंद तथा राजनीतिक प्रतिष्ठा व रुतबा बताने वाले वाहन के रूप में भी प्रसिद्ध हुई थी।

 लेकिन गिरती बिक्री तथा कम्पनी पर बढ़ते कर्ज के कारण हिन्दुस्तान मोटर्स ने उत्तरपाड़ा संयंत्र में 2014 में उत्पादन बंद कर दिया था। उल्लेखनीय है कि 1958 से 2014 तक लगातार उत्पादन होने के कारण एम्बेसडर सबसे लम्बे समय तक उत्पादित होने वाला कार ब्राण्ड था।

………………………………………………………………….

2) भारत की उस उन्नत इन्टरसेप्टर मिसाइल (advanced interceptor missile) का क्या नाम है जिसका सफल परीक्षण 11 फरवरी 2017 को किया गया तथा जिसके चलते भारत अपने आस-पास एक सशक्त मिसाइल-रोधी सुरक्षा कवच बनाने की दिशा में आगे बढ़ गया है? – “आश्विन” (‘Ashwin’)

विस्तार: स्वदेशी तकनीक से विकसित “आश्विन” (‘Ashwin’) नामक उन्नत मिसाइल रोधी प्रणाली (इन्टरसेप्टर मिसाइल) का सफल परीक्षण 11 फरवरी 2017 को किया गया। इस परीक्षण के तहत “आश्विन” ने तेजी से अपनी ओर आ रही एक हमलावर मिसाइल, जिसको 2,000 किमी. की दूरी से छोड़ा गया था, को हवा में ही सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया।

 इस हमलावर मिसाइल को पृथ्वी की सतह से लगभग 30 किमी. ऊँचाई पर नष्ट किया गया। इस सफल परीक्षण का अर्थ हुआ कि भारत 20 से 40 किलोमीटर की ऊँचाई पर चीन और पाकिस्तान जैसे पड़ोसी देशों के खिलाफ मिसाइल-रोधी प्रक्षेपास्त्रों का एक उन्नत सुरक्षा-कवच (Ballistic Missile Defence (BMD) shield) स्थापित करने की दिशा में तेजी से बढ़ रहा है।

 उल्लेखनीय है कि भारत ने बहु-सतहीय बैलास्टिक मिसाइल सुरक्षा प्रणाली (multi-tiered ballistic missile defense (BMD) system) विकसित करने का प्रयास कारगिल युद्ध की समाप्ति के बाद वर्ष 1999 में शुरू किया था ताकि पाकिस्तान से बढ़ रहे मिसाइल खतरे का सामना किया जा सके।

………………………………………………………………….

3) केन्द्र सरकार ने प्रतिरक्षा उत्पादों की खरीद की प्रक्रिया (defence procurement process) को दुरुस्त तथा पारदर्शी बनाने के लिए किस नई इकाई की स्थापना के प्रस्ताव को स्वीकार करने की बात कही है? – प्रतिरक्षा खरीद संगठन (Defence Procurement Organisation – DPO)

विस्तार: उल्लेखनीय है कि देश की प्रतिरक्षा प्रक्रिया को दुरुस्त एवं पारदर्शी बनाने के लिए उपयुक्त उपाय सुझाने के लिए केन्द्र सरकार ने भारतीय प्रबन्धन संस्थान (IIM) लखनऊ के पूर्व निदेशक डॉ. प्रीतम सिंह (Dr. Pritam Singh) की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया था। इस समिति ने 9 फरवरी 2017 को अपनी रिपोर्ट रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर को सौंप दी।

 इस समिति की एक अहम सिफारिश है कि प्रतिरक्षा उत्पादों की खरीद के लिए प्रतिरक्षा खरीद संगठन (Defence Procurement Organisation – DPO) नामक एक नई खरीद इकाई की स्थापना की जानी चाहिए। इस नई प्रस्तावित इकाई की खास बात होगी कि यह नौकरशाही का विस्तार न होकर सिर्फ रक्षा मंत्रालय के तहत एकीकृत की जाने वाली एक विशेषज्ञ खरीद इकाई होगी।

 उल्लेखनीय है कि प्रतिरक्षा उत्पादों की खरीद प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने तथा इसे तेजी प्रदान करने के लिए कई बार प्रयास किए गए हैं लेकिन यह खरीद प्रक्रिया अभी भी बेहद जटिल तथा धीमी बनी हुई है जिसका खामियाजा देश की सशस्त्र सेनाएं झेल रही हैं।

………………………………………………………………….

4) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के निर्देश पर काले-धन को सफेद करने के काम में लिप्त तमाम फर्जी कम्पनियों (shell companies) पर नकेल कसने के लिए फरवरी 2017 के दौरान विभिन्न मंत्रालयों तथा तमाम एजेंसियों का एक संयुक्त कार्यबल (Task Force) स्थापित किया गया है। इस कार्यबल की अध्यक्षता संयुक्त रूप से केन्द्र सरकार के किन अधिकारियों को सौंपी गई है? – राजस्व सचिव (Revenue Secretary) और कॉरपोरेट मामलों के सचिव (Corporate Affairs Secretary)

विस्तार: उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार को कुछ ही दिन पूर्व एक सैम्पल विश्लेषण से यह जानकारी मिली थी विमुद्रीकरण (नोटबंदी) के बाद ऐसी फर्जी कम्पनियों (shell companies) में नवम्बर-दिसम्बर 2016 की अवधि के दौरान 1,238 करोड़ रुपए की नकदी अवैध रूप से जमा हुई थी। यह जानकारी मिलने के बाद ही इस कार्यबल की स्थापना का निर्णय प्रधानमंत्री मोदी के निर्देश पर किया गया।

 इस कार्यबल का प्रमुख काम ऐसी फर्जी कम्पनियों पर कार्रवाई कसकर इनपर नकेल कसना है। क्योंकि यह तय माना जा रहा है कि इस कम्पनियों की स्थापना का एकमात्र उद्देश्य कालेधन को सफेद करना था। यह भी उल्लेखनीय है कि सरकार ने इस गोलमाल से लाभ हासिल करने वाली 560 कम्पनियों तथा इसे करने में भूमिका निभाने वाले 54 चार्टर्ड एकाउण्टेंट्स (CAs) की पहचान कर ली है।

 यह एजेंसियां इन कम्पनियों के खिलाफ बेनामी लेन-देन (प्रतिबन्ध) संशोधन कानून (Benami Transactions (Prohibition) Amendment Act) के तहत कड़ी कार्रवाई कर सकती हैं तथा इसमें बैंक खातों को सीज़ करने तथा सुप्त कम्पनियों को बंद करने जैसे उपाय भी शामिल होंगे। वहीं ऐसे फर्जीवाड़े में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की सरकार की योजना है।

………………………………………………………………….

5) भारतीय ऑफ-स्पिन गेंदबाज रविचन्द्रन आश्विन (R. Ashwin) 12 फरवरी 2017 को सबसे कम (यानि मात्र 45 टेस्ट मैचों) में 250 विकेट हासिल करने वाले गेंदबाज बन गए। अभी तक सबसे कम टेस्ट मैचों में 250 टेस्ट विकेट हासिल करने का रिकॉर्ड किस गेंदबाज के नाम था? – डेनिस लिली (ऑस्ट्रेलिया)

विस्तार: ऑस्ट्रेलिया (Australia) के महान तेज गेंदबाज डेनिस लिली (Dennis Lillee) ने 48 टेस्ट मैचों में 250 टेस्ट विकेट हासिल किए थे तथा सबसे कम टेस्ट मैचों में 250 विकेट के आंकड़े पर पहुँचने का रिकॉर्ड अभी तक उनके नाम था। लेकिन 12 फरवरी 2017 को भारतीय ऑफ-स्पिन गेंदबाज आर. आश्विन (R. Ashwin) ने बांग्लादेश के खिलाफ हैदराबाद में चल रहे टेस्ट मैच में के चौथे दिन दो विकेट लेकर 250 विकेट का आंकड़ा छू लिया। इस प्रकार वे मात्र 45 टेस्ट मैचों में 250 विकेट लेकर नया कीर्तिमान रचने में सफल हो गए।

 उल्लेखनीय है कि वे भारत की तरफ से 250 टेस्ट विकेट लेने वाले छठवें गेंदबाज हैं। ऐसा करने वाले अन्य पाँच भारतीय गेंदबाज हैं – अनिल कुम्बले (619 विकेट), कपिल देव (434 विकेट), हरभजन सिंह (417 विकेट), जहीर खान (311 विकेट) और बिशन सिंह बेदी (266 विकेट)।

………………………………………………………………….

 

http://churugurukul.com/current-affairs-11-12-february-2017