Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 19 - 20 June 2017

1) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 17 जून 2017 को कोच्चि मेट्रो (Kochi Metro) का उद्घाटन किया जोकि केरल राज्य की पहली मेट्रो रेल सेवा है। इस मेट्रो सेवा के शुरू होने के साथ देश के कितने शहरों में मेट्रो रेल सेवा शुरू हो चुकी है? – आठ

विस्तार: कोच्चि मेट्रो रेल सेवा देश की आठवीं मेट्रो रेल सेवा है। इसका उद्घाटन 17 जून 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया। इस मेट्रो सेवा के पहले चरण के तहत 13.2 किलोमीटर लम्बी मेट्रो लाइन का परिचालन शुरू किया गया। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation – DMRC) को कोच्चि मेट्रो के निर्माण और परिचालन शुरू करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी तथा उसने रिकॉर्ड 4 साल के भीतर यह काम पूरा कर लिया।

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व कोलकाता, दिल्ली, बंगलूरु, गुड़गाँव, मुम्बई, जयपुर और चेन्नई में मेट्रो रेल सेवाओं का परिचालन हो रहा है। कोच्चि मेट्रो देश की आठवीं मेट्रो रेल सेवा बन गई है।

कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड (Kochi Metro Rail Limited – KMRL) द्वारा संचालित यह मेट्रो सेवा देश की पहली एकीकृत बहु मोड वाली परिवहन प्रणाली (first integrated multi-mode transport system) है। इसका अर्थ हुआ कि सिर्फ एक टिकट खरीद कर यात्रियों को मेट्रो सेवा के अलावा सड़क और जल परिवहन जैसी फीडर सेवाओं का टिकट भी मिल सकेगा। इसके अलावा यह संचार-आधारित ट्रेन नियंत्रण प्रौद्यौगिकी (Communication Based Train Control technology) वाली देश की पहली मेट्रो प्रणाली है जिसमें ट्रेन के अधिकाधिक फेरों तथा कम से कम गलतियों की व्यवस्था रहेगी।

कोच्चि मेट्रो सेवा की एक और विशेषता यह है कि यह देश की पहली यातायात प्रणाली है जिसमें ट्रांसजेण्डर समुदाय के लोगों के लिए पद आरक्षित किए गए हैं।

……………………………………………………………..

2) भारत के भूतपूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी.एन. भगवती (Justice P.N. Bhagwati) का 15 जून 2017 को नई दिल्ली में निधन हो गया। उन्होंने न्यायिक सक्रियता (judicial activism) से सम्बन्धित किस बेहद महत्वपूर्ण उपागम को भारतीय न्यायापालिका में शुरू कराने में भूमिका निभाई थी? – जनहित याचिका (Public Interest Litigation)

विस्तार: न्यायमूर्ति प्रफुल्लचन्द्र नटवरलाल भगवती (Justice P.N. Bhagwati) भारत के सर्वोच्च न्यायालय के 17वें मुख्य न्यायाधीश थे। वे इस सर्वोच्च न्यायिक पद पर जुलाई 1985 से लेकर दिसम्बर 1986 तक आसीन रहे थे। इससे पहले वे गुजरात उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रहे थे तथा वर्ष 1973 में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश नियुक्त किए गए थे।

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के तौर पर उन्होंने ही जनहित याचिका (Public Interest Litigation – PIL) का सिद्धांत प्रस्तुत किया था। उनका कहना था कि मौलिक अधिकारों को हासिल करने के लिए जनहित याचिका एक मजबूत उपाय सिद्ध हो सकता है तथा इन अधिकारों के लिए न्यायपालिका का दरवाज़ा खटखटाने के लिए सुने जाने का अधिकार (locus standi) जैसी बाधाएं नहीं आनी चाहिए।

इसके अलावा उन्होंने जेल में बंद कैदियों की समस्याओं को दूर करने में भूमिका निभाई थी और अपने आदेश में कहा था कि उन्हें भी सभी अन्य नागरिकों की भांति मौलिक अधिकार हासिल हैं। वे 95 वर्ष के थे।

……………………………………………………………..

3) जर्मनी के पूर्व चांसलर हेलमट कोल (Helmut Kohl), जिनका निधन 16 जून 2017 को हुआ, को किस सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक घटना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है? – जर्मनी का पुनर-एकीकरण (Reunification of Germany)

विस्तार: हेलमट कोल (Helmut Kohl) 1982 से 1998 तक कुल 16 वर्षों तक जर्मनी की राजनीति के शिखर पुरुष रहे थे। वे पहले वर्ष 1982 से 1990 तक तत्कालीन पश्चिम जर्मनी (West Germany) के चांसलर थे जबकि 1990 में जर्मनी के पुनर-एकीकरण के बाद 1990 से 1998 तक एकीकृत जर्मनी (United Germany) के चांसलर (Chancellor) रहे थे।

पूर्वी व पश्चिम जर्मनी के बीच स्थापित बर्लिन दीवार (Berlin Wall) को नवम्बर 1989 में गिराए जाने के बाद ही उन्होंने दोनों देशों का पुनर-एकीकरण (Reunification) करने वाले ऐतिहासिक प्रयास का नेतृत्व किया था। यह प्रयास सफल रहा तथा द्वितीय विश्व युद्ध के बाद अस्तित्व में आए दोनों जर्मन देश 3 अक्टूबर 1990 को आधिकारिक रूप से एक हो गए थे जिससे एकीकृत जर्मनी अस्तित्व में आया था। इस घटना ने न सिर्फ दोनों जर्मन देशों की दशकों पुरानी कटुता को समाप्त किया बल्कि एक मजबूत यूरोप की स्थापना का मार्ग भी प्रशस्त किया।

उल्लेखनीय है कि 1990 के जर्मन एकीकरण को पुनर-एकीकरण (Reunification) के नाम से जाना जाता है क्योंकि जर्मनी का मूल एकीकरण 1871 में ऑटो वॉन बिस्मार्क (Otto von Bismarck) के नेतृत्व में हुआ था जिसमें तमाम जर्मन गणराज्यों को एकीकृत कर एक मजबूत देश स्थापित किया गया था।

हेलमट कोल को यूरोप की साझा मुद्रा यूरो (Euro) को अस्तित्व में लाने की दिशा में किए गए प्रयासों के लिए भी जाना जाता है। वर्ष 1999 में अस्तित्व में आयी यूरो मुद्रा वर्तमान में 19 यूरोपीय देशों की आधिकारिक मुद्रा है। उनका निधन 16 जून 2017 को अपने गृहनगर लुडविगशाफेन (Ludwigshafen) में हुआ। वे 87 वर्ष के थे।

……………………………………………………………..

4) भारत के प्रमुख बैडमिण्टन खिलाड़ी किदम्बी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) ने 18 जून 2017 को हुए फाइनल में किस खिलाड़ी को हराकर इण्डोनेशिया ओपन सुपर सीरीज़ का पुरुष एकल खिताब जीत लिया? – काज़ुमासा सकई (जापान)

विस्तार: किदम्बी श्रीकांत ने अपने करियर का तीसरा बैडमिण्टन सुपर सीरीज़ खिताब जीत लिया जब उन्होंने जकार्ता (Jakarta) में आयोजित इण्डोनेशिया ओपन सुपर सीरीज़ (Indonesian Open Super Series) टूर्नामेण्ट का पुरुष एकल खिताब जीत लिया। फाइनल में उन्होंने जापान के काज़ुमासा सकई (Kazumasa Sakai) को मात्र 37 मिनट में 21-11, 21-19 से पराजित किया। इस जीत से उन्हें 75,000 डॉलर का नकद पुरस्कार मिला।

यह श्रीकांत के करियर का तीसरा सुपर सीरीज़ खिताब था। इससे पहले उन्होंने वर्ष 2014 में चाइना सुपर सीरीज़ और वर्ष 2015 में इण्डिया सुपर सीरीज़ खिताब जीता था। उल्लेखनीय है कि एक और भारतीय खिलाड़ी एच.एस. प्रणय (HS Prannoy) भी इस टूर्नामेण्ट के सेमीफाइनल में पहुँचने में सफल रहे थे और उन्होंने दो पूर्व न. 1 खिलाड़ी मलेशिया के ली चोंग वेई (Lee Chong Wei) और चीन के चेन लोंग (Chen Long) को हराया था। लेकिन सेमीफाइनल में वे काज़ुमासा सकई से हारकर बाहर हो गए।

……………………………………………………………..

5) पाकिस्तान (Pakistan) ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 18 जून 2017 को हुए फाइनल में खिताब के प्रबल दावेदार माने जा रहे भारत (India) को 180 रनों से बुरी तरह से हराकर वर्ष 2017 का आईसीसी चैम्पियन्स ट्रॉफी (2017 ICC Champions Trophy) खिताब जीत लिया। इस टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (‘Player of the Series’) किसे घोषित किया गया? – हसन अली (Hasan Ali)

विस्तार: पाकिस्तान ने अपना पहला आईसीसी चैम्पियन्स ट्रॉफी खिताब जीतने में तब सफलता हासिल की जब उसने वर्ष 2017 के आईसीसी चैम्पियन्स ट्रॉफी (2017 ICC Champions Trophy) टूर्नामेण्ट के 18 जून 2017 को हुए फाइनल में भारत को एकतरफा मुकाबले में 180 रन से बुरी तरह से हरा दिया। ओवल (The Oval) में आयोजित इस मुकाबले में भारत ने टॉस जीतने के बाद पाकिस्तान को बैटिंग करने का आमंत्रण दिया और फखर ज़मान के शानदार 114 रनों की मदद से पाकिस्तान ने 50 ओवर में 338 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया। इसके जवाब में भारत की पूरी टीम 30.3 ओवर में 158 रन पर आउट हो गई। 180 रन से हुई भारत की हार किसी आईसीसी टूर्नामेण्ट के फाइनल की अब तक की सबसे बड़ी हार है। फखर ज़मान (Fakhar Zaman) को मैच का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (‘Player of the Match’) घोषित किया गया।

वहीं टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक 13 विकेट लेने वाले पाकिस्तानी गेंदबाज हसन अली (Hasan Ali) को टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (‘Player of the Series’) घोषित किया गया। उन्होंने फाइनल में भी 3 विकेट हासिल किए।

2017 की आईसीसी चैम्पियन्स ट्रॉफी का आयोजन इंग्लैण्ड (England) और वेल्स (Wales) में 1 से 18 जून 2017 के बीच किया गया। इसमें कुल 8 टीमों ने हिस्सा लिया। यह खिताब पाकिस्तान का पहला आईसीसी चैम्पियन्स ट्रॉफी खिताब था जबकि भारत इसे दो बार (वर्ष 2005 और 2013 में) जीत चुका है।

……………………………………………………………..

 

http://churugurukul.com/current-affairs-17-18-june-2017