Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 21 - 22 February 2017

1) क्विक-रिस्पॉन्स कोड (QR Code) पर आधारित उस नई भुगतान प्रणाली का क्या नाम जिसे भारत सरकार द्वारा प्रायोजित तथा समर्थित किया गया है तथा जिसे 20 फरवरी 2017 को औपचारिक रूप से लाँच किया गया? – भारतक्यूआर कोड (BharatQR code)

विस्तार: भारतक्यूआर कोड (BharatQR code) के द्वारा देश में खुदरा इलेक्ट्रॉनिक भुगतान की प्रक्रिया और आसान हो जाने की आशा व्यक्त की जा रही है। इस भुगतान प्रणाली को भारत सरकार द्वारा प्रायोजित किया गया है तथा इसकी खासियत यह होगी कि इसमें बिना बैंक कार्ड को स्वाइप किए सिर्फ क्यूआर कोड के द्वारा भुगतान करना संभव होगा।

 भारतक्यूआर कोड को चार प्रमुख कार्ड भुगतान कम्पनियों ने भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के निर्देश पर संयुक्त रूप से विकसित किया है। ये चार भुगतान कम्पनियां हैं – भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम – National Payments Corp. of India – NPCI (जो रूपे (RuPay) कार्ड्स का संचालन करता है), मास्टरकार्ड (MasterCard), वीज़ा (Visa) और अमेरिकन एक्सप्रेस (American Express)। हालांकि शुरू में अमेरिकन एक्सप्रेस के कार्डों को इस भुगतान प्रणाली में एकीकृत नहीं किया गया है लेकिन इसे जल्द ही एकीकृत कर लिया जायेगा।

 भारतक्यूआर कोड के द्वारा भुगतान करने के लिए व्यवसायी की आईडी (ID) अथवा फोन नम्बर को डालने की आवश्यकता नहीं होगी, जैसा की तमाम वॉलेट प्रणालियों जैसे पेटीएम (paytm) आदि में जरूरत होती है। । ग्राहकों को भुगतान करने के लिए सिर्फ क्यूआर कोड को स्कैन करना पड़ेगा तथा भुगतान राशि डालनी होगी। इसके बाद एक बटन दबाते ही उसके बैंक खाते से राशि डेबिट होकर उक्त व्यापारी के खाते में क्रेडिट हो जायेगी। इसमें स्वाइप मशीन की जरूरत नहीं होगी। इस प्रणाली का इस्तेमाल करने के लिए ग्राहकों को अपने बैंकों का भारतक्यूआर कोड एप्लीकेशन (BharatQR code app) डाउनलोड करना होगा तथा यह एप्लीकेशन इस प्रणाली को स्वीकार करने वाले बैंक ही उपलब्ध करायेंगे। शुरूआत में 15 बैंक इससे जुड़े हैं।

……………………………………………………………………….

2) नगालैण्ड (Nagaland) के मुख्यमंत्री टी.आर. ज़ेलियांग (TR Zeliang) द्वारा एक दिन पहले अपने पद से इस्तीफा देने के बाद 20 फरवरी 2017 को किसे राज्य के नए मुख्यमंत्री (Chief Minister) के रूप में चुना गया? – शुरहोज़ेलि लिज़ित्सु (Shurhozelie Liezietsu)

विस्तार: नगा पीपुल्स फ्रंट (Naga People’s Front – NPF) के अध्यक्ष शुरहोज़ेलि लिज़ित्सु (Shurhozelie Liezietsu) को 20 फरवरी 2017 को पार्टी के विधायक मण्डल का नेता चुना गया। इसके साथ ही उनके नगालैण्ड के नए मुख्यमंत्री बनने का मार्ग भी प्रशस्त हो गया जहाँ डेमोक्रेटिक एलायंस (Democratic Alliance) नामक गठबन्धन की सरकार है। वे राज्य की उत्तरी अन्गामी (Northern Angami) विधानसभा सीट से आठ बार विधायक चुने जा चुके हैं।

 इससे एक दिन पूर्व 19 फरवरी 2017 को मुख्यमंत्री टी.आर. ज़ेलियांग (TR Zeliang) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। उल्लेखनीय है कि नगालैण्ड में 12 जनवरी 2017 से राजनीतिक संकट चल रहा है जब राज्य सरकार ने राज्य भर के 12 नगरों में स्थानीय निकाय आयोजित करने की घोषणा की थी।

 इसके बाद राज्य में आहूत बंद के चलते दो सप्ताह के लिए समस्त सरकारी ढांचा बुरी तरह से चरमरा गया था।

……………………………………………………………………….

3) एशियाई शीतकालीन खेलों (Asian Winter Games) के आठवें संस्करण (8th edition) का प्रारंभ 19 फरवरी 2017 को किस जापानी शहर में 19 फरवरी 2017 को हुआ? – सपोरो (Sapporo)

विस्तार: जापानी शहर सोपोरो (Sapporo) स्थित सोपोरो डोम (Sapporo Dome) में एशियाई शीतकालीन खेलों (Asian Winter Games) के आठवें संस्करण की शुरूआत 19 फरवरी 2017 को हुई। इसका उद्घाटन जापान के युवराज (Crown Prince) नरुहितो (Naruhito) ने किया।

 इन खेलों में पाँच खेलों की 11 स्पर्धाओं से सम्बन्धित कुल 64 आयोजन होंगे तथा इनमें भारत समेत 30 देशों के लगभग 1500 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। इस दृष्टि से यह एशियाई शीतकालीन खेलों का अब तक का सबसे बड़ा आयोजन होगा। एक खास बात यह है कि एशियाई ऑलम्पिक समिति के निमंत्रण पर इसमें ऑस्ट्रेलिया (Australia) तथा न्यूज़ीलैण्ड (New Zealand) भी पहली बार शामिल हुए हैं। चूंकि ओशेनिया क्षेत्र में किसी क्षेत्रीय शीतकालीन खेल का आयोजन नहीं होता है इसलिए ऑस्ट्रेलिया व न्यूज़ीलैण्ड को इसमें शामिल किया गया है।

 जहाँ तक सपोरो की बात है तो यहाँ तीसरी बार एशियाई शीतकालीन खेलों का आयोजन किया जा रहा है। खेलों की स्पीड स्केटिंग स्पर्धाओं का आयोजन ओबिहीरो (Obihiro) नामक स्थान पर किया जायेगा।

……………………………………………………………………….

4) फरवरी 2017 के दौरान भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) देश की पहली खेल हस्ती बने जिन्होंने किसी एक ब्राण्ड के साथ 100 करोड़ रुपए से अधिक का विज्ञापन करार किया है। उन्होंने यह करार किस ब्राण्ड से किया है? – प्यूमा (Puma)

विस्तार: विराट कोहली (Virat Kohli) ने जर्मनी के सुप्रसिद्ध स्पोर्ट्स ब्राण्ड प्यूमा (Puma) के साथ 110 करोड़ रुपए का आठ-वर्षीय करार किया है। इस करार के साथ वे पहली भारतीय खेल हस्ती बने हैं जिन्हें किसी एक करार से 100 करोड़ अथवा इससे अधिक की आय हासिल होगी।

 अब कोहली प्यूमा ब्राण्ड के लिए विज्ञापन करने वाले तमाम प्रसिद्ध खेल हस्तियों की फेहरिस्त में शामिल हो गए हैं- जैसे यूसेन बोल्ट (Usain Bolt), आसफा पावेल (Asafa Powell), थियरे ऑनरी (Thierry Henry), आदि।

 उल्लेखनीय है कि अभी तक सिर्फ सचिन तेंदुलकर और महेन्द्र सिंह धौनी ही बहुवर्षीय विज्ञापन समझौतों के साथ 100 करोड़ रुपए तक के करार तक पहुँच पाए हैं लेकिन उन्हें इतनी राशि किसी एक ब्राण्ड से हासिल न होकर कई ब्राण्डों के संयुक्त करार से हासिल हुई थी।

……………………………………………………………………….

5) इंग्लैण्ड के ऑल-राउण्डर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) इण्डियन प्रीमियर लीग (IPL) की वर्ष 2017 की नीलामी के सर्वाधिक महंगे खिलाड़ी के रूप में सामने आए। 20 फरवरी 2017 को आयोजित इस नीलामी में किस टीम ने उन्हें 14.5 करोड़ रुपए की कीमत पर खरीदा? – राइज़िंग पुणे सुपरजायन्ट्स

विस्तार: राइज़िंग पुणे सुपरजायन्ट्स (Rising Pune Supergiants – RPS) ने इंग्लैण्ड के ऑल-राउण्डर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) को 14.5 करोड़ के मूल्य पर खरीदकर नया कीर्तिमान बनाया। इसके चलते स्टोक्स अब तक के IPL इतिहास के सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी बन गए जबकि कुल मिलाकर वे अब तक के दूसरे सबसे महंगे खिलाड़ी है। IPL के सबसे महंगे का कीर्तिमान भारत के युवराज सिंह (Yuvraj Singh) के नाम दर्ज है जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (RCB) ने वर्ष 2015 में 16 करोड़ रुपए में खरीदा था।

 वहीं बेंगलूरू में 20 फरवरी 2017 को आयोजित IPL नीलामी में इंग्लैण्ड के ही गेंदबाज टाइमल मिल्स (Tymal Mills) दूसरे सबसे महंगे खिलाड़ी के रूप में सामने आए जब रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (RCB) ने 12 करोड़ के मूल्य पर खरीदा।

……………………………………………………………………….

6) एन. चन्द्रशेखरन (N. Chandrasekaran) ने 150 वर्ष पुराने टाटा समूह (Tata Group) के सातवें अध्यक्ष (7th Chairman) की जिम्मेदारी औपचारिक रूप से 21 फरवरी 2017 को संभाल की। इस प्रतिष्ठित पद को उनके द्वारा संभाले जाने से जुड़ा एक महत्वपूर्ण तथ्य क्या है? – वे टाटा समूह को संभालने वाले पहले गैर-पारसी व्यक्ति हैं

विस्तार: 54-वर्षीय नटराजन चन्द्रशेखरन(Natarajan Chandrasekaran), जो “चन्द्रा” नाम से लोकप्रिय हैं, ने 21 फरवरी 2017 को 103 अरब डॉलर मूल्य वाले टाटा समूह (Tata Group) के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल ली। इसके साथ ही पिछले लगभग 4 माह से अंतरिम अध्यक्ष के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे पूर्व अध्यक्ष रतन टाटा का यह संक्षिप्त कार्यकाल समाप्त हो गया। चन्द्रशेखरन द्वारा यह जिम्मेदारी संभाले जाने से सम्बन्धित एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि वे पहले ऐसे अध्यक्ष है जिनका टाटा परिवार से कोई सम्बन्ध नहीं है तथा जो पारसी नहीं हैं।

 चन्द्रशेखरन को टाटा सन्स के बोर्ड रूम में चले बेहद कटु व लम्बे विवाद के बाद अध्यक्ष का पद प्रदान किया गया था। वे इससे पहले टाटा समूह की सॉफ्टवेयर कम्पनी TCS के सीईओ (CEO) व प्रबन्ध निदेशक (MD) थे। उनसे पहले इस पद को संभाल रहे साइरस मिस्त्री को आश्चर्यजनक रूप से 4 साल के कार्यकाल के बाद हटा दिया गया था।

 चन्द्रशेखरन से पहले जिन 6 हस्तियों ने यह पद संभाला है वह हैं – जमशेतजी नुसरवानजी टाटा (1867–1904), सर दोराब टाटा (1904–1932), नौरोजी सकलटवाला (1932–1938), जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा (1938–1991), रतन टाटा (1991–2012) और साइरस पालूनजी मिस्त्री (2012–2016)।

……………………………………………………………………..

7) किस कॉरपोरेट कम्पनी ने 20 फरवरी 2017 को 16,000 करोड़ रुपए की बाय-बैक योजना (Buy-back scheme) की घोषणा की जोकि भारतीय कॉरपोरेट इतिहास की सबसे बड़ी बाय-बैक योजना है? – टीसीएस (TCS)

विस्तार: भारत की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कम्पनी टाटा कन्सलटेंसी सर्विसेज़ (TCS) ने अपने शेयरधारकों को 20 फरवरी 2017 को एक बड़ा तोहफा देते हुए 16,000 करोड़ रुपए की बाय-बैक योजना की घोषणा कर दी। इस योजना के तहत कम्पनी अपने शेयरधारकों से 5.61 करोड़ शेयरों को खरीदेगी तथा इस खरीद के लिए वह अधिकतम 16,000 करोड़ रुपए का कुल भुगतान करेगी। माना जा रहा है कि इस बाय-बैक योजना से TCS की अन्य प्रतिद्वन्दी कम्पनियों जैसे इन्फोसिस (Infosys) और विप्रो (Wipro) पर भी ऐसी योजना लाने का दबाव पड़ेगा।

 यह भारतीय कॉरपोरेट इतिहास की सबसे बड़ी बाय-बैक योजना है तथा इसने रिलायन्स इन्डस्ट्रीज़ (Reliance Industries) की वर्ष 2012 में लाई गई लगभग 10,400 करोड़ की ऐसी ही योजना का कीर्तिमान तोड़ दिया है।

 उल्लेखनीय है कि भारत की बड़ी आईटी कम्पनियों के पास नकदी की भरमार होने के बावजूद वे अभी तक बाय-बैक योजना लाकर अपने शेयर-धारकों को इसका लाभ देने से बचते आए हैं। इसी संदर्भ में अनुमानों के अनुसार TCS के पास लगभग 43,000 करोड़ रुपए की नकदी उपलब्ध है।

……………………………………………………………………..

8) देश के किस निजी बैंक की विदेशी हिस्सेदारी की सीमा फरवरी 2017 के दौरान पुन: 74% की अधिकतम तय सीमा को पार कर गई जिसके बाद इस बैंक के शेयर की विदेशी खरीद पर एक बार फिर रोक लगा दी गई? – एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank)

विस्तार: उल्लेखनीय है कि 16 फरवरी 2017 को ही भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) को विदेशी निवेश की प्रतिबन्धित सूची से बाहर निकाला था क्योंकि विदेशी निवेश के तमाम माध्यमों जैसे ADR, GDR, FIIs, FPIs, FDI, NRIs और भारतीय मूल के नागरिकों (PIOs) से इस बैंक में होने वाले निवेश की सीमा 74% के तय अधिकतम स्तर से नीचे थी।

 लेकिन 17 फरवरी 2017 को एचडीएफसी बैंक के शेयर में ट्रेडिंग शुरू होते ही भारी उछाल आया तथा दोपहर 1:39 बजे RBI ने अपनी वेबसाइट पर यह सूचना जारी कर दी कि इस बैंक में विदेशी हिस्सेदारी एक बार फिर 74% के स्तर के पार हो जाने के कारण इसमें विदेशी निवेश को बंद कर इस श्रेणी से होने वाले निवेश के लिए इसे पुन: प्रतिबन्धित कर दिया है।

 जब विदेशी निवेश 74% के स्तर पर पहुँच जाता है तो RBI स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से यह अधिसूचित कर देती है कि अब इसमें और विदेशी खरीददारी नहीं हो सकती है। लेकिन उक्त मामले में ऐसी अधिसूचना जारी होने के पहले ही यह सीमा पार हो गई थी। अब RBI तथा SEBI इस मामले की जाँच में जुट गए हैं।

……………………………………………………………………..

9) कच्चे तेल (crude oil) के फरवरी 2017 में जारी उत्पादन आंकड़ों के अनुसार कौन सा देश सऊदी अरब (Saudi Arabia) को पीछे छोड़कर दिसम्बर 2016 के दौरान विश्व का सबसे बड़ा कच्चा तेल उत्पादक देश बन गया? – रूस (Russia)

विस्तार: दिसम्बर 2016 के दौरान रूस (Russia) ने 10.49 मिलियन बैरल कच्चे तेल का उत्पादन प्रतिदिन किया जोकि नवम्बर 2016 के उसके दैनिक उत्पादन से 29,000 बैरल कम था। वहीं इसी समयावधि के दौरान सऊदी अरब का उत्पादन 10.46 मिलियन बैरल प्रतिदिन रहा। इस प्रकार रूस सऊदी अरब को पीछे छोड़कर (दिसम्बर 2016 के दौरान) दुनिया का सबसे बड़ा कच्चा तेल उत्पादक देश बन गया।

 8.8 मिलियन बैरल प्रतिदिन का उत्पादन कर अमेरिका (US) तीसरे स्थान पर था।

 उत्पादन सम्बन्धी यह आंकड़े ज्वाइंट ऑरगनाइज़ेशन्स डेटा इनीशिएटिव (JODI) की वेबसाइट पर 20 फरवरी 2017 को रियाद में जारी किए गए। उल्लेखनीय है कि सऊदी अरब तथा तेल उत्पादक व निर्यातक देशों के संगठन ओपेक (OPEC) से जुड़े अन्य सदस्य देशों ने नवम्बर 2016 में निर्णय लिया था कि वे 1 जनवरी 2017 से अगले 6 माह के लिए कच्चे तेल के उत्पादन को 1.2 मिलियन बैरल प्रतिदिन (1.2 mbpd) के स्तर तक कम कर देंगे।

……………………………………………………………………..

10) राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत देश के किशोरों के लिए एक नई रिसोर्स किट (resource kit) तथा मोबाइल एप्लीकेशन (mobile app) को केन्द्र सरकार ने 20 फरवरी 2017 को लाँच किया। इस किट तथा मोबाइल एप को किस शीर्षक के अंतर्गत लांच किया गया? – “साथिया”

विस्तार: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 20 फरवरी 2017 को राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम (RKSK) के एक हिस्से के रुप में किशोर वय के लड़कियों एवं लड़कों (adolescents) के लिए “साथिया” रिसोर्स किट (“Saathiya” Resource Kit) एवं “साथिया सलाह” मोबाइल ऐप (Saathiya Salah Mobile App) लांच किया।

 इस कार्यक्रम के तहत एक प्रमुख कदम पीयर एजुकेटर्स (जिन्हें ही साथिया नाम से सम्बोधित किया जाता है) की प्रस्तुति है जो किशोर स्वास्थ्य सेवाओं (adolescent health services) के लिए मांग का सृजन करने के लिए एक उत्प्रेरक (catalyst) के रूप में काम करता है तथा उनके समकक्ष समूहों में प्रमुख किशोर स्वास्थ्य मुद्दों पर उम्र से संबंधित उपयुक्त ज्ञान प्रदान करता है। साथियों को ऐसा करने में सुसज्जित करने एवं उन्हें इसके लिए सक्षम बनाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने “साथिया” रिसोर्स किट (“साथिया” सलाह मोबइल ऐप) लांच किया है।

 उल्लेखनीय है कि देश की किशोर वय की लड़कियों एवं लड़कों की स्वास्थ्य एवं विकास आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने जनवरी 2014 में राष्ट्रीय किशोर कल्याण कार्यक्रम (RKSK) आरंभ किया था।

……………………………………………………………………..

 

http://churugurukul.com/current-affairs-19-20-february-2017