Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 21 - 24 July 2017

1) 2017 आईसीसी महिला विश्व कप (2017 ICC Women’s World Cup) के फाइनल में मेजबान इंग्लैण्ड (England) ने भारत (India) को एक रोमांचक मुकाबले में 9 रन से हराकर यह खिताब अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ इंग्लैण्ड आईसीसी महिला विश्व कप का खिताब अब तक कितनी बार जीत चुका है? – चार बार

विस्तार: अपना पहला विश्व कप जीतने का भारत का सपना 23 जुलाई 2017 को तब चकनाचूर हो गया जब ऐतिहासिक लॉर्ड्स (Lord’s) मैदान पर हुए वर्ष 2017 के आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल में मेजबान इंग्लैण्ड ने भारत को मात्र 9 रन से हरा दिया। जीत के लिए 229 रनों की चुनौती के साथ उतरी पूरी भारतीय टीम 219 रन पर ढेर हो गई जबकि 8 गेंदे शेष थीं। भारत के लिए यह फाइनल हारने का दूसरा क्रम था तथा इससे पहले वह वर्ष 2005 के विश्व कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से 98 रन से हारी थी।

हालांकि यह विश्व कप भारत के लिए कुल मिलाकर शानदार रहा क्योंकि प्रतियोगिता के पहले भारत की चुनौती कमजोर मानी जा रही थी। इस विश्व कप में भारत ने चोटी की तीन टीमों – इंग्लैण्ड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड को हराया।

वहीं इस खिताबी जीत के साथ इंग्लैण्ड ने आईसीसी महिला विश्व कप का खिताब अब तक चार बार जीत लिया। इससे पहले इंग्लैण्ड ने यह खिताब वर्ष 1973, 1993 और 2009 में जीता था। हालांकि महिला विश्व जीतने के मामले में ऑस्ट्रेलिया (Australia) की टीम सबसे सफल रही है और उसने 6 बार यह खिताब जीता है। वहीं यह खिताब जीतने वाली तीसरी टीम न्यूज़ीलैण्ड (New Zealand) है जिसने अपना एकमात्र खिताब वर्ष 2000 में जीता था।

उल्लेखनीय है कि 2017 आईसीसी महिला विश्व कप इस प्रतियोगिता का 11वां संस्करण था तथा इसका आयोजन इंग्लैण्ड और वेल्स में 24 जून से 23 जुलाई 2017 के बीच किया गया। इंग्लैण्ड की टैमी ब्यूमॉण्ट (Tammy Beaumont) को विश्व कप की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (Player of the Series) घोषित किया गया जबकि फाइनल में भारत के 6 विकेट लेने वाली इंग्लैण्ड की ही अन्या श्रबसोल (Anya Shrubsole) को फाइनल मैच की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किया गया।

………………………………………………………..

2) वरिष्ठ नागरिकों (Senior Citizens) के लिए 21 जुलाई 2017 को शुरू की गई उस नई पेंशन योजना का क्या नाम है जिसके तहत 8% के सुनिश्चित रिटर्न की गारण्टी प्रदान की गई है? – प्रधानमंत्री वय वन्दना योजना (PMVVY)

विस्तार: “प्रधानमंत्री वय वन्दना योजना” (Pradhan Mantri Vaya Vandana Yojana – PMVVY) केन्द्र सरकार द्वारा 21 जुलाई 2017 को शुरू की गई उस महात्वाकांक्षी पेंशन योजना का नाम है जिसके तहत वरिष्ठ नागरिकों को प्रतिवर्ष कम से कम 8% का सुनिश्चित रिटर्न मिलेगा। इस योजना को केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लाँच किया। इस योजना की घोषणा 2017-18 के केन्द्रीय बजट में की गई थी।

यह योजना सिर्फ 60 वर्ष तथा उससे अधिक आयु के नागरिकों के लिए ही है तथा इसमें 3 मई 2018 तक नामांकन किया जा सकेगा। योजना को चलाने की जिम्मेदारी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) को दी गई है।

प्रधानमंत्री वय वन्दना योजना में एक बार में न्यूनतम 1,50,000 रुपए तथा अधिकतम 7,50,000 रुपए जमा किए जा सकते हैं। यदि किसी वरिष्ठ नागरिक को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है तो वह योजना में निवेश करने के तीन साल बाद अधिकतम 75% धन आहरित कर सकेगा। योजना को GST की परधि से बाहर रखा गया है। योजना की कुल समयावधि 10 वर्ष है।

………………………………………………………..

3) राष्ट्रपति पद के लिए राजग के उम्मीदवार रामनाथ कोविन्द (Ramnath Kovind) ने इस प्रतिष्ठित चुनाव में संयुक्त विपक्ष की उम्मीदवार पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार (Meira Kumar) को पराजित कर दिया तथा 20 जुलाई 2017 को परिणाम घोषित होने के बाद कोविन्द को राष्ट्रपति नामित कर दिया गया। लेकिन इस चुनाव में हारने के बावजूद मीरा कुमार ने क्या रिकॉर्ड बनाया? – वे हारने वाले राष्ट्रपति उम्मीदवारों में सर्वाधिक मत हासिल करने वाली बन गईं

विस्तार: रामनाथ कोविन्द के हाथों बड़े फासले से हारने वाली मीरा कुमार ने इस हार के बावजूद एक कीर्तिमान बनाया। वे हारने वाले राष्ट्रपति पर के उम्मीदवारों में सर्वाधिक मर प्राप्त करने वाली उम्मीदवार बन गईं।

उल्लेखनीय है कि अभी तक हारने वाले उम्मीदवारों में सर्वाधिक मत हासिल करने का कीर्तिमान भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति कोका सुब्बा राव (Koka Subba Rao) के नाम दर्ज था जिन्होंने 1967 में कांग्रेस पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार जाकिर हुसैन (Zakir Hussain) के खिलाफ संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा था। चुनाव लड़ने के लिए उन्होंने न्यायपालिका से इस्तीफा दे दिया था तथा उन्हें हारने के बावजूद 3.63 लाख मत हासिल हुए थे। यह एक कीर्तिमान था तथा यह अगले 50 वर्षों तक कायम रहा। इसी कीर्तिमान को अब मीरा कुमार ने तोड़ा है।

14वें राष्ट्रपति के चुनाव में कोविन्द को 2930 मत हासिल हुए जिनका मूल्य 702044 है जबकि मीरा कुमार को 1844 मत हासिल हुए जिनका मूल्य 367314 (3.67 लाख) है। इस चुनाव में तमाम राज्यों में कोविन्द के पक्ष में क्रॉस-वोटिंग भी हुई। इस प्रकार वे राष्ट्रपति बनने वाले पहले भाजपा सदस्य भी बन गए।

………………………………………………………..

4) निजी क्षेत्र के किस बैंक ने एक अनोखी पहल शुरू की है जिसके तहत उसके वेतनभोगी ग्राहक अब एटीएम (ATM) से ही 15 लाख रुपए तक का व्यक्तिगत ऋण (personal loan) हासिल कर सकेंगे?- आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank)

विस्तार: जुलाई 2017 के दौरान निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने एक अनोखी पहल शुरू की है जिसके तहत बैंक के वेतनभोगी ग्राहक (salaried customers) बैंक के एटीएम में 15 लाख रुपए तक के व्यक्तिगत ऋण (personal loan) का आवेदन एवं इसकी स्वीकृति हासिल कर सकेंगे। ऋण की राशि तुरंत उनके बचत खाते में क्रेडिट भी हो जायेगी।

इस योजना के तहत बैंक के एटीएम में कोई भी लेन-देन करने के बाद ग्राहक को पर्सनल लोन हासिल करने का ऑप्शन प्रदर्शित किया जायेगा। इसके लिए आवेदन करने वाले ग्राहकों को उनके सिबिल स्कोर (CIBIL score) के आधार पर 15 लाख तक का ऋण मिल जायेगा तथा इसके लिए उन्हें बैंक की शाखा जाने की आवश्यकता नहीं होगी।

हालांकि बैंक के ग्राहक बैंक की वेबसाइट, आई-मोबाइल (iMobile)एप्लीकेशन तथा बैंक की शाखा से भी पर्सनल लोन हासिल कर सकते हैं।

………………………………………………………..

5) राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 20 जुलाई 2017 को आयोजित एक कार्यक्रम में “पैका विद्रोह” (“Paika Rebellion”) की 200वीं वर्षगाँठ से सम्बन्धित आयोजनों का उद्घाटन किया। यह आंदोलन देश के किस राज्य से सम्बन्धित है? – ओडीशा (Odisha)

विस्तार: “पैका विद्रोह” (“Paika Rebellion”) ओडीशा (Odisha) में घटित हुआ था जिसके तहत वर्ष 1817 में ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह किया गया था। ओडीशा के परंपरागत सशस्त्र भू-स्वामियों की सेना को “पैका” नाम से जाना जाता था तथा वे योद्धाओं की भूमिका निभाते हुए कानून एवं व्यवस्था पर नियंत्रण रखते थे।

अपने नेता बक्शी जगबन्धु (Bakshi Jagabandhu) के नेतृत्व में इस समुदाय ने 1817 में ईस्ट इण्डिया कम्पनी (East India Company) के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह शुरू किया था तथा ऐसा करते हुए भगवान जगन्नाथ को ओडिया एकता के प्रतीक के रूप में प्रस्तुत किया था। यह आंदोलन जल्द पूरे ओडिया-भाषी क्षेत्र में फैल गया था लेकिन कम्पनी ने अपनी दमनकारी नीतियों के चलते इसे जल्द कुचल दिया था।

तमाम इतिहासकारों एवं विशेषज्ञों के अनुसार “पैका विद्रोह” भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ शुरू हुआ पहला संगठित सशस्त्र विद्रोह था। इसी विद्रोह के 200 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 20 जुलाई 2017 को भुवनेश्वर में आयोजित एक कार्यक्रम में 200वीं वर्षगाँठ से सम्बन्धित आयोजनों की श्रृंखला की शुरूआत की।

………………………………………………………..

 

http://www.churugurukul.com/current-affairs-17-20-july-2017