Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 23 - 24 December 2016

1) भारत सरकार ने 21 दिसम्बर 2016 को सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME Ministry) के तहत एक नई सेवा – भारतीय उद्यम विकास सेवा (Indian Enterprise Development Service – IEDS) के गठन तथा काडर समीक्षा की स्वीकृति प्रदान कर दी। इस नई प्रस्तावित सेवा का मुख्य कार्य क्या होगा? – स्टार्ट-अप इण्डिया, स्टैण्ड-अप इण्डिया और मेक इन इण्डिया जैसे कार्यक्रमों के उद्देश्यों की प्राप्ति में मदद करना

विस्तार: भारतीय उद्यम विकास सेवा (Indian Enterprise Development Service – IEDS) नामक एक नई सेवा के गठन तथा काडर समीक्षा का निर्णय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में 21 दिसम्बर 2016 को हुई कैबिनेट की बैठक में लिया गया।

 इस नई प्रस्तावित सेवा का गठन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises) के विकास आयुक्त कार्यालय (Office of the Development Commissioner) के अंतर्गत किया जायेगा तथा इसका मुख्य उद्देश्य केन्द्र सरकार की स्टार्ट-अप इण्डिया (Start Up India), स्टैण्ड-अप इण्डिया (Stand Up India) और मेक इन इण्डिया (Make in India) जैसी योजनाओं के तय उद्देश्यों की प्राप्ति में मदद करना है। वहीं दूसरी ओर इस सेवा के द्वारा MSME Ministry की क्षमताओं तथा कार्यकुशलता को विस्तारित करने का प्रयास भी किया जायेगा।

 प्रारंभ में भारतीय उद्यम विकास सेवा (IEDS) की कुल काडर संख्या 617 अधिकारियों की होगी जिसमें से 6 संयुक्त सचिव (Joint Secretary) के दर्जे के होंगे।

……………………………………………………

2) दिसम्बर 2016 के दौरान जारी आंकड़ों के अनुसार भारत ने हाल ही में किस देश को पछाड़कर विश्व की छठवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था (sixth largest economy in the world) का रुतबा हासिल किया है? – ग्रेट ब्रिटेन (Great Britain)

विस्तार: एक बड़ी उपलब्धि के अंतर्गत भारत अपने पूर्व औपनिवेशिक स्वामी ग्रेट ब्रिटेन (Great Britain) को पछाड़कर विश्व की छठवीं अर्थव्यवस्था बन गया है। पिछले 150 वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है। इसका मुख्य कारण एक ओर भारत की तीव्र विकास दर है तो दूसरी ओर ब्रिटेन के यूरोपीय संघ (EU) छोड़ने के निर्णय के चलते अर्थव्यवस्था पर पड़ा विपरीत प्रभाव भी है।

 इस सम्बन्ध में जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले एक साल के दौरान ब्रिटिश पाउण्ड की कीमत में लगभग 20% की गिरावट आने के कारण डॉलर के परिप्रेक्ष्य में पाउण्ड की कीमत 0.81 प्रति डॉलर रही है तथा इसके समतुल्य यहाँ का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) 2.29 ट्रिलियन डॉलर रहा। वहीं इसी समयावधि के दौरान भारत का सकल घरेलू उत्पाद 2.30 ट्रिलियन डॉलर रहा। इस प्रकार भारत ब्रिटेन को पछाड़कर दुनिया की छठवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।

 इसी के साथ अब यह भी माना जा रहा है कि भारत ब्रिटेन के साथ अर्थव्यवस्था के आकार की इस दूरी को तेजी से बढ़ाता जायेगा क्योंकि भारत की वृद्धि दर 6 से 8 प्रतिशत के बीच रहने का अनुमान है जबकि ब्रिटिश वृद्धि दर 1 से 2 प्रतिशत रहेगी।

……………………………………………………

3) भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने विदेशी मुद्रा प्रबन्धन कानून (FEMA) की धाराओं का उल्लंघन करने के मामले में दिसम्बर 2016 के दौरान किन 5 विदेशी बैंकों पर जुर्माना लगा दिया? – डोइश बैंक, स्टैण्डर्ड चार्टर्ड बैंक, बैंक ऑफ अमेरिका, बैंक ऑफ टोक्यो मित्शुबीशी और रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैण्ड

विस्तार: 5 विदेशी बैंकों – डोइश बैंक (Deutsche Bank), स्टैण्डर्ड चार्टर्ड बैंक (Standard Chartered Bank), बैंक ऑफ अमेरिका (Bank of America), बैंक ऑफ टोक्यो मित्शुबीशी (Bank of Tokyo Mitsubishi) और रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैण्ड (Royal Bank of Scotland)- पर भारतीय रिज़र्व बैंक ने 21 दिसम्बर 2016 को विदेशी मुद्रा प्रबन्धन कानून, 1999 (Foreign Exchange Management Act, 1999 – FEMA) के प्रावधानों के तहत जानकारी न देने के आरोप में जुर्माना लगा दिया।

 डोइश बैंक पर जहाँ 20,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया वहीं शेष अन्य चार बैंकों पर 10,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया।

 यह जुर्माना रिज़र्व बैंक को विदेशी मुद्रा प्रबन्धन कानून, 1999 की धारा 11(3) में प्रदत्त अधिकारों के तहत लगाया गया है।

……………………………………………………

4) दिल्ली के उप-राज्यपाल (Lieutenant Governor) नजीब जंग (Najeeb Jung) ने 22 दिसम्बर 2016 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। वे कब से इस पद को संभाले हुए थे? – जुलाई 2013

विस्तार: नजीब जंग (Najeeb Jung) दिल्ली के 20वें उप-राज्यपाल थे तथा उन्हें जुलाई 2013 में तेजिन्दर खन्ना (Tejendra Khanna) के स्थान पर इस पद पर नियुक्त किया गया था।

 एक अप्रत्याशित घटना में 22 दिसम्बर 2016 को उन्होंने एकाएक अपने पद से इस्तीफा दे दिया। अपना इस्तीफा केन्द्र सरकार को भेजते हुए उन्होंने स्पष्ट किया कि वे राजनीति छोड़कर अकादमिक जगत में पुन: लौटना चाहते हैं, जोकि उनकी पहली पसन्द रहा है।

 उल्लेखनीय है कि नजीब जंग के दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) से सम्बन्ध बहुत मधुर नहीं रहे तथा केजरीवाल उनपर सरकार का एजेंट होने का आरोप अकसर लगाते रहे हैं।

……………………………………………………

5) वर्ष 2016 का आईसीसी क्रिकेटर ऑफ द ईयर (ICC Cricketer of the Year) पुरस्कार जीतने वाला वह भारतीय क्रिकेटर कौन है जिसने इस पुरस्कार को जीतकर प्रतिष्ठित सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी पर कब्जा जमाया तथा यह पुरस्कार जीतने वाला तीसरा भारतीय बना? – रविचन्द्रन आश्विन (Ravichandran Ashwin)

विस्तार: भारतीय ऑफ-स्पिनर रविचन्द्रन आश्विन (Ravichandran Ashwin) को 22 दिसम्बर 2016 को वर्ष 2016 का आईसीसी क्रिकेटर ऑफ द ईयर (ICC Cricketer of the Year) घोषित कर दिया गया। इस पुरस्कार को जीतने के कारण उन्हें सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी (Sir Garfield Sobers Trophy 2016) प्रदान की जायेगी। इस प्रकार वे यह प्रतिष्ठित खिताब अपने नाम करने वाले मात्र तीसरे भारतीय क्रिकेटर बन गए। इससे पहले राहुल द्रविड (Rahul Dravid) तथा सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को यह सम्मान मिला है।

 यह पुरस्कार जीतने वाले अन्य क्रिकेटर हैं – राहुल द्रविड (2004), एण्ड्रू फ्लिंटॉफ और जाक कालिस (वर्ष 2005 में संयुक्त रूप से), रिक्की पोंटिंग (2006 व 2007), शिवनारायण चन्द्रपॉल (2008), मिचेल जॉनसन (2009 व 2014), सचिन तेंदुलकर (2010), जोनाथन ट्रॉट (2011), कुमार संगाक्कारा (2012), माइकल क्लार्क (2013) और स्टीव स्मिथ (2015)।

 इसके अलावा आश्विन को आईसीसी का वर्ष 2016 का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर (ICC Test Cricketer of the Year 2016) के पुरस्कार के लिए भी चयनित किया गया।

 राहुल द्रविड आईसीसी टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर पुरस्कार जीतने वाले भारत के एकमात्र अन्य क्रिकेटर हैं तथा उन्हें वर्ष 2004 में यह सम्मान मिला था।

……………………………………………………

 

http://www.churugurukul.com/current-affairs-21-22-december-2016