Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 25 - 28 July 2017

1) अमेरिकी नौसेना (US Navy) में 22 जुलाई 2017 को शामिल किए गए उस अत्याधुनिक एवं विशालकाय विमानवाहक पोत (Aircraft Carrier) का क्या नाम है जो वर्तमान में दुनिया का सबसे महंगा नौसेना पोत है? – यूएसएस जेराल्ड फोर्ड (USS Gerald Ford)

विस्तार: 12.9 अरब डॉलर ($12.9 billion) की भारी-भरकम कीमत से तैयार किए गए विमानवाहक पोत यूनाइटेड स्टेट्स शिप जेराल्ड फोर्ड (United States Ship Gerald Ford) को 22 जुलाई 2017 को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा अमेरिकी नौसेना में शामिल कर लिया गया। इस जहाज को नौसेना में शामिल करने का कार्यक्रम वर्जीनिया (Virginia) के नॉरफॉक स्थित नौसेना बेड़े (Naval Station Norfolk) में आयोजित किया गया।

इस जहाज का नाम 38वें अमेरिकी राष्ट्रपति गेराल्ड फोर्ड (Gerlad Ford) के नाम पर रखा गया है जिन्होंने अपने समय में अमेरिकी नौसेना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 337 मीटर लम्बा यह विमानवाहक पोत अत्याधुनिक प्रौद्यौगिकी से लैस है तथा इसके चलते विमान इससे जल्दी उड़ सकते हैं तथा उतर सकते हैं। वहीं विमानों की तैनाती में कम नौसैनिकों की जरूरत पड़ेगी।

जहाँ तक इस पोत से हवाई हमले करने की बात है तो इससे एक दिन में 220 हवाई हमले किए जा सकते हैं, यानि प्रत्येक 6 मिनट में 1 हमला। इस पोत की अद्वितीय इलेक्ट्रोमैग्नेटिक शक्ति के चलते इससे इतने अधिक हवाई हमला करना इसलिए संभव हुआ है।

………………………………………………………………………..

2) तनावग्रस्त परिसम्पत्तियों (Stressed Assets) की समस्या से ग्रस्त बैंकों को उबारने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) को बैंकों को निर्देशित करने की शक्ति प्रदान करने से सम्बन्धित एक विधेयक 24 जुलाई 2017 को लोकसभा में पेश किया गया। इस विधेयक किस अध्यादेश का स्थान लेने के उद्देश्य से लाया गया है? – बैंकिंग नियमन (संशोधन) अध्यादेश, 2017  

विस्तार: केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 24 जुलाई 2017 को लोकसभा में बैंकिंग नियमन (संशोधन) विधेयक, 2017 (Banking Regulation (Amendment) Ordinance, 2017) को प्रस्तुत किया। यह विधेयक बैंकिंग नियमन (संशोधन) अध्यादेश, 2017 का स्थान लेने के उद्देश्य से लाया गया है।

बैंकिंग नियमन (संशोधन) अध्यादेश, 2017 मई 2017 में केन्द्र सरकार द्वारा लाया गया था। उल्लेखनीय है कि भारतीय रिज़र्व बैंक ने जून 2017 के दौरान ऐसे 12 बड़े बकायेदारों को चिह्नित किया था जिनकी बैंकिंग क्षेत्र के कुल बुरे कर्जों (bad loans) में लगभग 25% हिस्सेदारी है।

………………………………………………………………………..

3) बहुधा भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के पितामाह नाम से पुकारे जाने वाले प्रोफेसर यू.आर. राव (Prof. U.R. Rao) का 24 जुलाई 2017 को बंगलूरू में निधन हो गया। वे किन वर्षों के दौरान भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के प्रमुख रहे थे? – 1984 से 1994 तक

विस्तार: प्रोफेसर यू.आर. राव (पूरा नाम उडुपी रामचन्द्र राव) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (Indian Space Research Organisation – ISRO) के चौथे अध्यक्ष तथा उन्होंने 1984 से लेकर 1994 तक संगठन की अध्यक्षता ऐसे समय में की थी जब संगठन अपने सबसे चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा था।

उनकी खास बात थी कि वे ISRO के सभी अभियानों से प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए थे। वे अपने अंतिम समय तक संगठन को सलाह देने का काम करते थे। स्वदेशी उपग्रह प्रौद्यौगिकी विकसित करने में उन्होंने काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके कार्यक्राल के दौरान ही वर्ष 1991 में दो-टन भार वाले जीएसएलवी (GSLV) रॉकेट के विकास का काम शुरू हुआ था तथा उनकी अध्यक्षता के समय के दौरान ही रूस ने भारत को क्रायोजेनिक तकनीक हस्तांतरित करने से मना कर दिया था।

वे वाशिंग्टन (Washington) स्थित सैटेलाइट हॉल ऑफ फेम (Satellite Hall of Fame) में शामिल किए जाने वाले एकमात्र भारतीय है। उन्हें वर्ष 1976 में पद्मश्री तथा इसी वर्ष दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण प्रदान किया गया।

………………………………………………………………………..

4) आर्थिक मामलों पर गठित कैबिनेट समिति ने सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कम्पनी एचपीएसएल (HPCL) में अपनी कितने प्रतिशत हिस्सेदारी ओएनजीसी (ONGC) को बेचने की सैद्धांतिक मंजूरी जुलाई 2017 के दौरान प्रदान कर दी? – 51.1%

विस्तार: केन्द्रीय तेल मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) द्वारा 24 जुलाई 2017 को लोकसभा में दी गई जानकारी के अनुसार आर्थिक मामलों पर गठित कैबिनेट समिति (Cabinet Committee on Economic Affairs – CCEA) ने सार्वजनिक क्षेत्र की प्रमुख तेल विपणन कम्पनी हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (HPCL) में अपनी 51.1% हिस्सेदारी एक अन्य सार्वजनिक उपक्रम तेल एवं प्राकृतिक गैस आयोग लिमिटेड (Oil and Natural Gas Corporation Ltd. – ONGC) को बेचने के प्रस्ताव को अपनी सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर दी है।

लेकिन इस सौदे के पूरे होने के बाद भी HPCL का अस्तित्व एक सार्वजनिक उपक्रम के रूप में बना रहेगा। तेल मंत्रालय के अनुसार इस सौदे से सार्वजनिक क्षेत्र में एक बड़ा तेल उपक्रम स्थापित हो सकेगा जो तेल की खोज के अलावा तेल के विपणन (oil marketing) में भी प्रमुख भूमिका निभायेगा।

………………………………………………………………………..

5) किस भारतीय बैडमिण्टन खिलाड़ी ने 23 जुलाई 2017 को यू.एस. ओपन ग्रां प्री बैडमिण्टन गोल्ड (US Open Grand Prix Badminton Gold) प्रतियोगिता का पुरुष एकल खिताब जीतकर अपने करियर का तीसरा ग्रां प्री खिताब जीतने में सफलता हासिल की? – एच.एस. प्रणय (H.S. Prannoy)

विस्तार: भारतीय बैडमिण्टन खिलाड़ी एच.एस. प्रणय (H.S. Prannoy) ने अपने करियर का तीसरा ग्रां प्री खिताब तब अर्जित किया जब यू.एस. ओपन ग्रां प्री बैडमिण्टन गोल्ड प्रतियोगिता के पुरुष एकल फाइनल में उन्होंने अपने ही देश के पुरुपल्ली कश्यप (Parupalli Kashyap) को तीन गेम्स में 21-15, 20-22, 21-12 से पराजित कर दिया।

फाइनल तक पहुँचने के सफर में प्रणय ने सेमीफाइनल में वियतनाम के तिन मिन गुएन (Tien Minh Nguyen) को 21-14, 21-19 से पराजित किया था जबकि कश्यप ने एक अपेक्षाकृत मुश्किल सेमीफाइनल में दक्षिण कोरिया के क्वांग ही हिओ (Kwang Hee Heo) को 15-21, 21-15, 21-16 से पराजित किया था। यह 21 माह के बाद कश्यप द्वारा खेला गया किसी प्रमुख बैडमिण्टन प्रतियोगिता का फाइनल था।

………………………………………………………………………..

1) रामनाथ कोविन्द 25 जुलाई 2017 को भारत के 14वें राष्ट्रपति बन गए। इस पद को संभालने के साथ उन्होंने कौन सा नया इतिहास रच दिया? – वे राष्ट्रपति के पद तक पहुँचने वाले पहले भाजपा सदस्य हैं

विस्तार: 25 जुलाई 2017 को संसद के केन्द्रीय कक्ष में हुए शपथ-ग्रहण समारोह में 71-वर्षीय रामनाथ कोविन्द (Ramnath Kovind) को भारतीय संघ के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.एस. खेहर (Justice J.S. Khehar) द्वारा दिलाई गईं। इसके साथ ही कोविन्द जहाँ के.आर. नारायणन (K.R. Narayanan) के बाद देश के दूसरे दलित राष्ट्रपति बने वहीं वे देश के सर्वोच्च पद तक पहुँचने वाले पहले भाजपा से सम्बद्ध पहले नेता भी बन गए।

शपथ ग्रहण समारोह के बाद नए राष्ट्रपति को 21 तोपों की सलामी दी गई तथा उन्होंने अपने स्वागत भाषण में संसद से राष्ट्र को पहली बार सम्बोधित किया। शपथ ग्रहण से पूर्व उन्होंने राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

रामनाथ गोविन्द का आधिकारिक आवास 340 कमरों वाला भव्य राष्ट्रपति भवन (Rashtrapati Bhavan) हो गया जबकि इसी दिन निवर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) अपने नए आवास 10, राजाजी मार्ग (10, Rajaji Marg) में चले गए। परंपरा का निर्वहन करते हुए नए राष्ट्रपति ने पूर्व राष्ट्रपति को उनके आवास तक जाकर छोड़ा।

……………………………………………………………..

2) भारत के सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक व शिक्षाविद प्रो. यशपाल (Prof. Yashpal) का 24 जुलाई 2017 को निधन हो गया। उनकी अध्यक्षता में गठित एक समिति ने स्कूली बच्चों से पढ़ाई का बोझ कम करने से सम्बन्धित एक ऐतिहासिक रिपोर्ट वर्ष 1993 में पेश की थी। इस रिपोर्ट का क्या नाम था? – “लर्निंग विद-आउट बर्डन” (‘Learning Without Burden’)

विस्तार: वयोवृद्ध वैज्ञानिक, शिक्षाविद तथा विज्ञान शिक्षा को तमाम माध्यमों से लोकप्रिय बनाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले प्रो. यशपाल (Prof. Yashpal) का 24 जुलाई 2017 को उत्तर प्रदेश के नोएडा में 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्होंने कॉस्मिक रेज़ (cosmic rays), उच्च-ऊर्जा भौतिकी (high-energy physics) एवं एस्ट्रोफिज़िक्स (astrophysics) के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिए थे। इसके अलावा ऐसे तमाम संस्थानों की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी जिन्होंने भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम में अभूतपूर्व योगदान दिया।

वर्ष 1991 में यशपाल दूरदर्शन (Doordarshan) पर “टर्निंग प्वाइंट” (Turning Point”) नामक एक बेहद लोकप्रिय विज्ञान कार्यक्रम को प्रस्तुत करते थे। वर्ष 2000 में उन्हें विज्ञान को लोकप्रिय बनाने में अभूतपूर्व योगदान देने के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार (Indira Gandhi Prize for Popularization of Science) प्रदान किया गया था जबकि वर्ष 2006 में उन्हें मेघनाद साहा मैडल (Meghnad Saha Medal) प्रदान किया गया।

वे वर्ष 2007 से 2012 तक नई दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University – JNU) के कुलपति (Chancellor) थे। इससे पूर्व 1986 से 1991 तक उन्होंने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के अध्यक्ष (Chairman) की भूमिका निभाई थी।

1993 में उनकी अध्यक्षता में मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD Ministry) ने राष्ट्रीय सलाहकार समिति (National Advisory Committee) की स्थापना की थी जिसको देश के स्कूली बच्चों का बोझ कम करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इस समिति ने “लर्निंग विद-आउट बर्डन” (“Learning without Burden”) नामक रिपोर्ट वर्ष 1993 में जारी की थी जिसे भारतीय शिक्षा क्षेत्र में काफी क्रांतिकारी माना जाता है।

……………………………………………………………..

3) सार्वजनिक क्षेत्र के प्रसारक दूरदर्शन (Doordarshan) ने जुलाई 2017 के दौरान “मानव-आँख” वाला अपना पुराना लोगो (old logo) बदलकर नया लोगो तैयार करने के लिए भारत के आम नागरिकों से आवेदन प्राप्त करने हेतु विज्ञापन जारी किया। दूरदर्शन का पुराना लोगो किस वर्ष शुरू किया गया था? – 1959 में

विस्तार: दूरदर्शन (Doordarshan) का सुप्रसिद्ध लोगो (logo) वर्ष 1959 में शुरू किया गया था। इसे अहमदाबाद स्थित राष्ट्रीय डिज़ाइन संस्थान (National Institute of Design – NID) के छात्र देवाशीष भट्टाचार्य (Devashis Bhattacharya) ने तैयार किया था और इस लोगो को 15 सितम्बर 1959 में दूरदर्शन ने अपना लिया था।

अब जुलाई 2017 में दूरदर्शन ने नया आधुनिक लोगो तैयार करने के लिए भारत के आम नागरिकों से आवेदन प्राप्त करने हेतु एक प्रतियोगिता का विज्ञापन जारी किया है। इसमें उनसे ऐसा लोगो तैयार करने को कहा गया है जो युवाओं को लुभा सके। इस प्रतियोगिता के विजेता के लिए 1 लाख रुपए का पुरस्कार रखा गया है।

उल्लेखनीय है कि प्रसार भारती (Prasar Bharati) अपने दूरदर्शन नेटवर्क के दर्शकों की संख्या तथा राजस्व को बढ़ाने के लिए पिछले काफी समय से प्रयास कर रहा है। दूरदर्शन देशभर में अपने 23 चैनल्स का परिचालन कर रहा है।

……………………………………………………………..

4) माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने अपने किस 32-वर्ष पुराने प्रोग्राम (program) को बंद करने की घोषणा 24 जुलाई 2017 को की जिसके बाद दुनिया भर में इस प्रोग्राम के प्रेमियों ने इस घोषणा का वापस लेने के पक्ष में अपनी आवाज बुलंद की? – एमएस पेंट (MS Paint)

विस्तार: दिग्गज सॉफ्टवेयर कम्पनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने 24 जुलाई 2017 को घोषणा की कि वह अपने अत्यंत लोकप्रिय ड्राइंग एवं पेंटिंग प्रोग्राम माइक्रोसॉफ्ट पेंट (Microsoft Paint – MS Paint) को अपने विण्डोज़ (Windows) पैकेज के साथ देना बंद कर देगा। यह प्रोग्राम वर्ष 1985 से विण्डोज़ पैकेज के साथ उपलब्ध कराया जा रहा है तथा तबसे लगातार विण्डोज़ के नए वर्ज़न्स का हिस्सा रहा है। लेकिन अब इस घोषणा का अर्थ हुआ कि माइक्रोसॉफ्ट इस प्रोग्राम का आगे विकास या अप्डेट नहीं करेगा।

लेकिन कम्पनी की इस घोषणा का दुनिया भर के एमएस पेंट प्रेमियों ने विरोध किया और गुहार लगाई कि ऐसा न किया जाए। इसको देखते हुए माइक्रोसॉफ्ट ने यह घोषणा की कि पूरी तरह से एमएस पेंट को बंद न करते हुए इसे विण्डोज़ स्टोर (Windows Store) पर उपलब्ध कराया जायेगा। इसका अर्थ हुआ कि अब हालांकि विण्डोज़ के इंटरप्राइज़ वर्ज़न (Enterprise versions) में यह मौजूद नहीं होगा लेकिन इसे घरेलू ग्राहक (home users) विण्डोज़ स्टोर से डाइनलोड कर इंस्टाल कर सकेंगे।

……………………………………………………………..

5) राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के प्रमुख सूचकांक निफ्टी (Nifty) ने 25 जुलाई 2017 को कौन सा ऐतिहासिक स्तर पहली बार छुआ? – 10,000 अंक

विस्तार: निफ्टी, जोकि भारत के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange – NSE) में सूचीबद्ध सर्वप्रमुख 50 कम्पनियों का सूचकांक है, ने 25 जुलाई 2017 को एक नया इतिहास कायम किया जब इसने 10,000 अंकों के ऐतिहासिक स्तर को पहली बार छुआ। उल्लेखनीय है कि सूचकांक को 9,000 अंकों से 10,000 अंकों के स्तर तक पहुँचने में 875 दिन का समय लगा। वहीं 27 जुलाई को निफ्टी पहली बार 10,000 अंकों के ऊपर बंद हुआ।

निफ्टी ने 1,000 का अंक 3 नवम्बर 1995 को छुआ था तथा 9 जनवरी 2004 को 2,000 अंकों तक पहुँचने में इसे 2985 दिन लगे थे। वहीं इसने 5,000 अंकों के स्तर (27 सितम्बर 2007) से 6000 के स्तर (1 नवम्बर 2007) तक पहुँचने में मात्र 35 दिन का समय लगा।

भारतीय पूँजी बाजार में घरेलू तथा विदेशी संस्थागत निवेशकों (FIIs) द्वारा लगातार खरीददारी किए जाने के चलते तेजी लगातार बनी हुई है। इस वर्ष अभी तक घरेलू म्यूचुअल फण्डों और बीमा कम्पनियों ने जहाँ 24,000 करोड़ रुपए का निवेश किया है वहीं विदेशी संस्थागत निवेशकों ने लगभग 8.5 अरब डॉलर (लगभग 55,000 करोड़ रुपए) का निवेश किया है।

……………………………………………………………..

http://churugurukul.com/?q=current-affairs-21-24-july-2017