Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 27 Oct to 31 Oct 2017

1) भारत में पहली बार किसी इचथ्योसॉर (ichthyosaur) श्रेणी के जीवाश्म (fossil) की खोज होने की घोषणा अक्टूबर 2017 के दौरान की गई। डॉल्फिन मछली और एक बड़ी छिपकली का संयोजन दिखने वाला यह अपनी तरह का पहला जीवाश्म देश के किस क्षेत्र में खोजा गया है? – कच्छ (गुजरात)

विस्तार: लगभग जुरासिक युग (Jurassic-era) के एक विचित्र से इचथ्योसॉर (ichthyosaur) श्रेणी के जानवर का जीवाश्म, जो देखने में एक डॉल्फिन मछली और एक बड़ी छिपकली का संयोजन लगता है, गुजरात (Gujarat) राज्य के कच्छ (Kutch) क्षेत्र में खोजा गया है। 5.5 मीटर लम्बा यह जीवाश्म इचथ्योसॉर श्रेणी का है तथा इसकी आयु कम से कम 9 करोड़ वर्ष आंकी गई है। भारत में खोजा गया यह पहला इचथ्योसॉर जीवाश्म दिल्ली विश्वविद्यालय के भूवैज्ञानिक गुंटुपल्ली प्रसाद (Guntupalli Prasad) के नेतृत्व वाली एक भारतीय-जर्मन अनुसंधान दल द्वारा खोजा गया है।

इस विचित्र जानवर के जीवाश्म के अस्थि-पंजर (skeleton) की खोज सबसे पहले कच्छ में वर्ष 2016 में की गई थी। सर्वप्रथम इसे एक डायनासॉर (dinosaur) माना गया था। लेकिन जब इसका पूरा अस्थि-पंजर मिला तो यह स्पष्ट हो गया कि इसकी हड्डी किसी डायनासॉर की तुलना में अधिक लम्बी है। यह भारत में अब तक खोजा गया पहला इचथ्योसॉर-आधारित जीवाश्म है।

उल्लेखनीय है कि इचथ्योसॉर (जिन्हें यूनानी भाषा में “फिश-लिज़ार्ड” कहा जाता है) बड़े आकार के सरीसृप (reptiles) थे जो डायनासॉरों के कालखण्ड में ही पाए जाते थे। इस श्रेणी के कई जीवाश्म उत्तर अमेरिका और यूरोप में पाए गए हैं लेकिन दक्षिणी गोलार्द्ध में इनकी खोज दक्षिण अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में ही सीमित रही हैं।

……………………………………………………………………

2) कौन सी कम्पनी 26 अक्टूबर 2017 को 6 लाख करोड़ रुपए (Rs. 6 trillion) के बाजार पूँजीकरण (Market Capitalization) को छूने वाली भारत की पहली कॉर्पोरेट कम्पनी बन गई? – रिलायंस इण्डस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL)

विस्तार: 26 अक्टूबर 2017 को रिलायंस इण्डस्ट्रीज़ लिमिटेड (Reliance Industries Ltd – RIL) के शेयर में भारी उछाल के चलते कम्पनी का बाजार पूँजीकरण (Market Capitalization) 6 लाख करोड़ रुपए (Rs. 6 trillion) के स्तर को पार कर गया। इसके चलते रिलायंस इस स्तर को पार करने वाली भारत की पहली कॉर्पोरेट कम्पनी बन गई।

26 अक्टूबर को रिलायंस के शेयर का मूल्य BSE पर 1.3% बढ़कर 958.20 रुपए तक पहुँच गया। इसके चलते कम्पनी का कुल बाजार पूँजीकरण 6.02 लाख करोड़ रुपए हो गया।

उल्लेखनीय है कि अप्रैल 2017 से कम्पनी के टेलीकॉम व्यवसाय रिलायंस जियो (Reliance Jio) के शुरू होने के बाद से कम्पनी के बाजार पूँजीकरण में लगभग 3 लाख करोड़ की वृद्धि दर्ज हुई है। कम्पनी के शेयर में वर्तमान तेजी का कारण जियो द्वारा अपने शुल्कों में 19 अक्टूबर 2017 से वृद्धि करने की घोषणा है जिससे विशेषज्ञ मान रहे हैं कि कम्पनी की लाभ क्षमता में वृद्धि होगी।

……………………………………………………………………

3) तमाम सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए योजनाओं के साथ आधार (Aadhaar) संख्या को जोड़ने की अनिवार्यता की अंतिम तिथि को केन्द्र सरकार ने बढ़ाकर क्या कर दिया है? – 31 मार्च 2018

विस्तार: केन्द्र सरकार ने आधार (Aadhaar) को जोड़ने के मुद्दे पर सुनवाई कर रही मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की एक पीठ के समक्ष 25 अक्टूबर 2017 को स्पष्ट किया कि तमाम सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए इन योजनाओं से लाभार्थियों के आधार नम्बर को जोड़ने की अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2017 थी जिसे अब बढ़ाकर 31 मार्च 2018 कर दिया गया है। इसके अलावा सरकार ने यह भी जानकारी दी कि गरीबों को खाद्यान्न देने के लिए आधार की अनिवार्यता नहीं होगी।

उल्लेखनीय है कि योजनाओं के लिए आधार नम्बर को जोड़ने के सरकार के आदेश को तमाम याचिकाकर्ताओं ने सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी है और कहा है कि आधार को अनिवार्य नहीं किया जा सकता है। इसमें भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (Unique Identification Authority of India – UIDAI) द्वारा जारी 12 अंकों के आधार नम्बर को बैंक खातों तथा मोबाइल नम्बरों से जोड़ने का मुद्दा भी शामिल है।

……………………………………………………………………

4) दुनिया भर के प्रमुख देशों के पासपोर्ट्स की रैंकिंग करने वाली वेबसाइट पासपोर्ट इंडेक्स (Passport Index) द्वारा 26 अक्टूबर 2017 को जारी नवीनतम रैंकिंग में किस देश के पासपोर्ट को दुनिया का सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट (World’s most powerful passport) बताया गया है? – सिंगापुर (Singapore)

विस्तार: पासपोर्ट इंडेक्स द्वारा 26 अक्टूबर 2017 को जारी रैंकिंग में सिंगापुर (Singapore) के पासपोर्ट को दुनिया का सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट बताया गया है क्योंकि इस देश के नागरिक दुनिया भर के 159 देशों में बिना वीज़ा के यात्रा (Visa-free travel) कर सकते हैं। यह पहला मौका है जब किसी एशियाई देश के पासपोर्ट को दुनिया के सबसे पासपोर्ट का रुतबा हासिल हुआ है। हाल ही में पराग्वे (Paraguay) द्वारा सिंगापुर के नागरिकों को बिना वीज़ा के यात्रा करने की अनुमति देने के बाद सिंगापुर को इस इंडेक्स में पहला स्थान मिला है।

इंडेक्स में दूसरा स्थान जर्मनी (Germany) को हासिल है जिसके नागरिक 158 देशों में बिना वीज़ा के यात्रा कर सकते हैं। तीसरे स्थान पर संयुक्त रूप से स्वीडन (Sweden) और दक्षिण कोरिया (South Korea) हैं। चौथे स्थान पर ब्रिटेन (UK) के साथ डेनमार्क(Denmarl), फिनलैण्ड (Finland), इटली (Italy), फ्रांस (France), स्पेन (Spain), नॉर्वे (Norway) और जापान (Japan) को रखा गया है।

वहीं अमेरिका (US) के पासपोर्ट की शक्ति और कम हुई है तथा उसे मलेशिया (Malaysia), आयरलैण्ड (Ireland) और कनाडा (Canada) के साथ संयुक्त रूप से छठे स्थान पर रखा गया है। भारत (India) 94 पायदान के इस सूचकांक में 75वें स्थान पर है जबकि पिछले वर्ष के इस इंडेक्स में भारत को 78वाँ स्थान मिला था। अफगानिस्तान (Afghanistan) को सबसे निचले पायदान पर रखा गया है जबकि पाकिस्तान (Pakistan) और इराक (Iraq) इससे एक पायदान ही ऊपर हैं।

उल्लेखनीय है कि पासपोर्ट इंडेक्स (Passport Index) को रियल-टाइम आधार पर विभिन्न देशों के नागरिकों को बिना वीज़ा के प्रवेश की स्थिति को संज्ञान में लेकर तैयार किया गया है। इसका विकास आर्टन कैपिटा (Arton Capita) नामक एक कनाडियन वैश्विक सलाहकार फर्म ने तैयार किया है।

……………………………………………………………………

5) किस डायरेक्ट-टू-होम (DTH) सेवा संचालन कम्पनी ने अपनी सेवाएं बंद करने की घोषणा 25 अक्टूबर 2017 को की? – रिलायंस कम्यूनिकेशन्स (Reliance Communications)

विस्तार: अनिल अम्बानी के नेतृत्व वाली कम्पनी रिलायंस कम्यूनिकेशन्स (Reliance Communications – RCom) ने रिलायंस डिज़िटल टीवी (Reliance Digital TV) के नाम से संचालित की जा रही अपनी डायरेक्ट-टू-होम (direct-to-home – DTH) टीवी सेवा को 18 नवम्बर 2017 से बंद करने की घोषणा 25 अक्टूबर 2017 को जारी एक विज्ञापन के द्वारा की।

वर्ष 2008 से यह डीटीएच सेवा शुरू करने रिलायंस कम्यूनिकेशन्स का लाइसेंस जल्द समाप्त हो रहा है तथा कम्पनी ने यह घोषणा की कि वह अपने लाइसेंस का नवीनीकरण नहीं करेगी।

वर्तमान में 6 निजी डायरेक्ट-टू-होम सेवा कम्पनियां (ज़ी समूह का डिश टीवी (Dish TV), टाटा स्काई (Tata Sky), वीडियोकॉन (Videocon d2h), सन डायरेक्ट टीवी (Sun Direct TV), रिलायंस डिज़िटल टीवी (Reliance Digital TV) और एयरटेल (Airtel DTH) इस क्षेत्र में अपनी सेवाएं उपलब्ध करा रही हैं जबकि सार्वजनिक क्षेत्र का प्रसारक दूरदर्शन (Doordarshan) डीडी फ्री डिश (DD Free Dish) के नाम से अपनी नि:शुल्क सेवा देश भर में उपलब्ध करा रहा है।

रिलायंस डिज़िटल टीवी इसमें सबसे छोटा है तथा ट्राई (TRAI) द्वारा जारी जून 2017 के आंकड़ों के अनुसार उसके पास मात्र 2% डीटीएच ग्राहक हैं। वहीं 24% बाजार हिस्सेदारी के साथ डिश टीवी देश का सबसे बड़ा डीटीएच संचालक तथा दूसरे स्थान पर टाटा स्काई (23% हिस्सेदारी) है।

……………………………………………………………………

6) भारतीय रेल (Indian Railway) ने किन चार रेलवे स्टेशनों पर पहली बार सौर-ऊर्जा संयंत्रों का संचालन 27 अक्टूबर 2017 से शुरू किया जिनके द्वारा कुल 5 मेगावॉट पीक (5 MWp) ऊर्जा का उत्पादन किया जायेगा? – नई दिल्ली, दिल्ली, हजरत निज़ामुद्दीन और आनंद विहार

विस्तार: रेल मंत्री पियूष गोयल ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के चार रेलवे स्टेशनों पर सौर-ऊर्जा संयंत्रों का संचालन 27 अक्टूबर 2017 से शुरू किया। ये चार स्टेशन हैं – नई दिल्ली (New Delhi), दिल्ली (Delhi), हजरत निज़ामुद्दीन (Hazrat Nizamuddin) और आनंद विहार (Anand Vihar) तथा इन स्टेशनों की छतों पर सोलर पैनल लगाए गए हैं जिसके द्वारा संयुक्त रूप से प्रतिवर्ष 76.5 लाख यूनिट सौर ऊर्जा का उत्पादन किया जायेगा। इस ऊर्जा से इन स्टेशनों की लगभग 30% ऊर्जा आवश्यकता पूरी होगी।

केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय सोलर मिशन (National Solar Mission) के तहत क्रियान्वित इस परियोजना को दिसम्बर 2016 में 37.45 करोड़ रुपए की लागत से शुरू किया गया था। सार्वजनिक-निजी भागीदारी (publi-private partnership – PPP) मॉडल के तहत क्रियान्वित इस परियोजना के द्वारा भारतीय रेल को प्रतिवर्ष 4.21 करोड़ रुपए की बचत होने का अनुमान है तथा इससे प्रतिवर्ष 6082 टन कार्बन (CO) उत्सर्जन कम होने का अनुमान है। भारतीय रेल पूरे देश में 1000 मेगावॉट पीक (1000 MWp) क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र रेलवे स्टेशनों पर लगाने जा रही है।

……………………………………………………………

7) किस देश ने 28 अक्टूबर 2017 को सम्पन्न वर्ष 2017 का फीफा अण्डर-17 फुटबॉल विश्व कप (FIFA U-17 Football World Cup) खिताब जीतकर यह प्रतिष्ठित प्रतियोगिता पहली बार जीतने का गौरव हासिल किया? – इंग्लैण्ड (England)  

विस्तार: कोलकाता के युवाभारती क्रीड़ांगन (Salt Lake Stadium) में 28 अक्टूबर 2017 को हुए फाइनल में इंग्लैण्ड (England) ने शानदार वापसी करते हुए दो गोलों से पिछड़ने के बावजूद स्पेन (Spain) को 5-2 से हराकर पहली बार फीफा अण्डर-17 फुटबॉल विश्व कप (FIFA U-17 Football World Cup 2017) जीत लिया। यूरोप की चैम्पियन अण्डर-17 टीम स्पेन को तीसरी बार फाइनल में पराजित होना पड़ा।

इंग्लैण्ड के लिए पांच गोल रिहान ब्रेव्स्टर (44वाँ मिनट), मॉर्गन गिब्स व्हाइट (58वाँ मिनट), फिल फोडेन (69वाँ और 88वाँ मिनट) और मार्क गुहेली (84वाँ मिनट)। इससे पहले स्पेन ने 31वें मिनट तक सर्जियो गोमेज़ के दो गोलों की मदद से 2-0 की बढ़त ले ली थी। लेकिन इंग्लैण्ड ने बाद में अप्रत्याशित वापसी करते हुए मुकाबले के साथ-साथ यह प्रतिष्ठित खिताब भी पहली बार जीता।

फाइनल में मिली यह जीत इंग्लैण्ड के लिए यूरोपियन अण्डर-17 चैम्पियनशिप के फाइनल में स्पेन के हाथों मिली हार का बदला भी रही। उल्लेखनीय है कि इंग्लैण्ड ने इसी वर्ष फीफा अण्डर-20 विश्व कप का खिताब भी जीता है।

इससे पहले तीसरे स्थान के लिए हुए मुकाबले में ब्राज़ील (Brazil) ने माली (Mali) को 2-0 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया।

……………………………………………………………

8) 28 अक्टूबर 2017 को सम्पन्न हुए फीफा अण्डर-17 विश्व कप में किस खिलाड़ी को टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (Best player of the Tournament) चुना गया? – फिल फोडेन (Phil Foden)

विस्तार: इंग्लैण्ड (England) के खिलाड़ी फिल फोडेन (Phil Foden) को फीफा अण्डर-17 विश्व कप 2017 का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना गया। फाइनल मैच में अपनी टीम के लिए दो शानदार गोल करने वाले फोडेन ने टूर्नामेण्ट में कुल तीन गोल करने के अलावा अपनी टीम के आक्रामक शैली अपनाने में अहम भूमिका निभाई।

वहीं इंग्लैण्ड के एक और खिलाड़ी रिहान ब्रेव्स्टर (Rhian Brewster) को टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक 8 गोल करने के कारण “गोल्डन बूट” (“Golden Boot”) पुरस्कार से नवाजा गया। ब्राज़ील (Brazil) के गोलकीपर गैब्रियल ब्रज़ाओ (Gabriel Brazão) को टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर चुनते हुए “गोल्डन ग्लव्ज़” (“Golden Gloves”) पुरस्कार प्रदान किया गया। वहीं ब्राज़ील की टीम को टूर्नामेण्ट के दौरान सर्वश्रेष्ठ खेल भावना प्रदर्शित करने के लिए “फेयर प्ले अवॉर्ड” (“Fair Play Award”) प्रदान किया गया।

उल्लेखनीय है कि यह फीफा अण्डर-17 विश्व कप का 17वाँ संस्करण था तथा इसका आयोजन 6 से 28 अक्टूबर 2017 के बीच भारत में किया गया। भारत ने इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता का आयोजन पहली बार करते हुए इसे अब तक का सबसे सफल टूर्नामेण्ट बनाया। इसमें विश्व कप में कुल 183 गोल हुए जो किसी भी संस्करण में हुए सर्वाधिक गोल हैं। इसके अलावा टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक दर्शकों (1,347,133) का भी कीर्तिमान बना।

……………………………………………………………

9) एक ऐतिहासिक घटनाक्रम में भारत ने पहली बार ईरान (Iran) के चाबहार (Chahbahar) बंदरगाह के रास्ते अफगानिस्तान (Afghanistan) में किस अनाज की खेप भेजना 29 अक्टूबर 2017 से शुरू किया? – गेहूँ (Wheat)

विस्तार: भारत ने ईरान के चाबहार बंदरगाह का पहली बार इस्तेमाल करते हुए गेहूँ की खेप को अफगानिस्तान भेजना 29 अक्टूबर 2017 से शुरू किया। यह बंदरगाह अफगानिस्तान से व्यापार का नया वैकल्पिक मार्ग है जिसमें बिना पाकिस्तान के सड़क मार्ग और इसके ऊपर से हवाई मार्ग का इस्तेमाल किए ईरान के चाबहार बंदरगाह के माध्यम से अफगानिस्तान से आयात-निर्यात करना संभव हो गया है।

1.1 मिलियन टन की गेहूँ की इस पहली खेप को भारत ने अफगानिस्तान को मदद के तौर पर भेजा है तथा इसको नए मार्ग से भेजने से यह स्पष्ट हो गया कि भारत द्वारा ईरान के चाबहार बंदरगाह के विकास का काम पूरा हो गया है और यह महत्वपूर्ण रणनीतिक मार्ग परिचालन-योग्य हो गया है। उल्लेखनीय है कि भारत ने वर्ष 2003 में ईरान के बंदर अब्बास (Bandar Abbas) बंदरगाह का इस्तेमाल अफगानिस्तान को सामान भेजने के लिए तब किया था जब पाकिस्तान (Pakistan) ने भारत को अपने मार्ग का इस्तेमाल इस उद्देश्य के लिए करने पर पाबंदी लगा दी थी।

……………………………………………………………

10) भारतीय तटरक्षक बल (Indian Coast Guard) के लिए किसी भारतीय निजी उपक्रम द्वारा निर्मित पहले अपतटीय निगरानी पोत (Offshore Patrol Vessel – OPV) आईसीजी विक्रम (ICG Vikram) को 27 अक्टूबर 2017 को लाँच किया गया। इस पोत का निर्माण किस निजी उपक्रम द्वारा किया गया है? – लार्सन एण्ड टूब्रो (Larsen & Toubro – L&T)

विस्तार: भारतीय रक्षा मंत्रालय ने निजी क्षेत्र की दिग्गज इंजीनियरिंग एवं निर्माण कम्पनी लार्सन एण्ड टूब्रो (Larsen & Toubro – L&T) को भारतीय तटरक्षक बल (Indian Coast Guard) के लिए सात अपतटीय निगरानी पोतों के डिज़ाइन और निर्माण का 1,432 करोड़ रुपए का ठेका मार्च 2015 में दिया गया था।

इसी संदर्भ में L&T द्वारा निर्मित आईसीजी विक्रम (ICG Vikram) नामक पहले अपतटीय निगरानी पोत (OPV) को 27 अक्टूबर 2017 को चेन्नई के पास कट्टूपल्ली (Kattupalli) में स्थित L&T के पोर्ट में लाँच किया गया। यह किसी भारतीय निजी उपक्रम द्वारा भारतीय तटरक्षक बल के लिए पूर्णतया डिज़ाइन तथा निर्मित देश का पहला OPV है।

आईसीजी विक्रम की लम्बाई 97 मीटर है, चौड़ाई 15 मीटर, ड्रॉट 3.6 मीटर तथा कुल भार (displacement) 2140 टन है। यह अधिकतम 26 नॉट (knot) की रफ्तार पर चल सकने में सक्षम है। इस पोत की पूरी डिज़ाइन और निर्माण अमेरिकी ब्यूरो ऑफ शिपिंग (American Bureau of Shipping – ABS) और इण्डियन रजिस्ट्रार ऑफ शिपिंग (Indian Registrar of Shipping – IRS) के दोहरे प्रमाणन के अंतर्गत किया गया है। इन 7 पोतों के निर्माण का पर्यवेक्षण भारतीय तटरक्षक बल की एक रेज़ीडेंट टीम द्वारा कट्टुपल्ली बंदरगाह में किया जा रहा है।

……………………………………………………………

http://churugurukul.com/current-affairs-25-oct-26-oct-2017