Call us now: (+91) 94135 68044 | churugurukul@gmail.com

Current Affairs 29 - 30 July 2016

Hillary-Clinton-2016

1) डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) की नेता हिलेरी क्लिंटन (Hillary Clinton) ने 26 जुलाई 2016 को अमेरिका (United States) के लिए क्या नया इतिहास रच दिया? – वे अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए किसी प्रमुख पार्टी द्वारा नामित पहली महिला उम्मीदवार बन गईं

विस्तार: हिलेरी क्लिंटन को अमेरिका की सत्ताधारी डेमोक्रेटिक पार्टी ने 26 जुलाई 2016 को आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए औपचारिक रूप से अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया। यह घोषणा फिलाडेल्फिया (Philadelphia) में चल रहे डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन (Democratic National Convention) में की गई।

 इसी के साथ अमेरिका के 227 वर्ष लम्बे लोकतांत्रिक इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब राष्ट्रपति पद के लिए किसी प्रमुख पार्टी ने किसी महिला पर दावेदारी लगाई हो।

 उल्लेखनीय है कि 2008 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए भी हिलेरी क्लिंटन ने अपनी दावेदारी की मुहिम छेड़ी थी लेकिन बराक ओबामा (Barack Obama) के आकर्षण के सामने वे नहीं टिक पाईं थी। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन (Bill Clinton) की पत्नी हिलेरी का मुकाबला अब रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार तथा प्रख्यात उद्योगपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) से 8 नवम्बर 2016 को होगा।

………………………………………………………

Mahasweta-2016

2) प्रख्यात बांग्ला लेखिका तथा सामाजिक कार्यकर्ता महाश्वेता देवी (Mahasweta Devi) का 28 जुलाई 2016 को कोलकाता के एक निजी अस्पताल में 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्हें किस वर्ष भारत का सबसे प्रतिष्ठित साहित्यिक सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार (Jnanpith Award) प्रदान किया गया था? – 1996

विस्तार: महाश्वेता देवी की गिनती सर्वकालीन महान बांग्ला साहित्यकारों में से की जाती थी। उन्हें अपने प्रसिद्ध उपन्यास “हजार चौराशीर मा” के लिए वर्ष 1996 का ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रदान किया गया था।

 उनकी अन्य प्रमुख कृतियाँ हैं – “अरन्येर अधिकार” (जिसके लिए उन्हें वर्ष 1979 में साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था), “द क्वीन ऑफ झांसी”, “अग्निगर्भ”, “बशाई तुडु”, “रुदाली” तथा “इमेजिनेरी मैप्स”।

 उन्होंने अपनी कृतियों में अधिकांशत: अत्याचार से पीड़ित आदिवासियों, अछूतों एवं गरीबों के चरित्र का चित्रण किया था जिनको उच्च-वर्गीय सामंतों, सूदखोरों तथा भ्रष्ट सरकारी कर्मचारियों के जबर्दस्त शोषण का सामना करना पड़ता है।

 उनके पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के साथ काफी घनिष्ट सम्बन्ध थे। ये सम्बन्ध तब प्रगाढ़ हुए थे जब ममता बनर्जी ने विपक्ष में रहते हुए नंदिग्राम तथा सिंगूर में पश्चिम बंगाल राज्य सरकार की भूमि अधिग्रहण नीतियों का विरोध कर रही थीं तथा महाश्वेता ने उनको सैद्धांतिक समर्थन दिया था।

 महाश्वेता बांग्ला के महान नाटककार तथा साहित्यकार स्वर्गीय बिजोन भट्टाचार्य (Bijon Bhattacharya) की पत्नी थीं। इसके अलावा महान बांग्ला फिल्मकार ऋत्विक घटक (Ritwick Ghatak) उनके चाचा थे।

 उन्हें पत्रकारिता, साहित्य तथा रचनाधर्मिता के लिए वर्ष 1997 में मैग्सेसे पुरस्कार (Magsaysay Award) प्रदान किया गया था। वहीं वर्ष 2006 में उन्हें देश का दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण (Padma Vibhushan) प्रदान किया गया था।

………………………………………………………

Philae-2016

3) यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (European Space Agency – ESA) के वैज्ञानिकों ने किसी धूमकेतु (comet) से तमाम महत्वपूर्ण जानकारी भेजने वाली किस पहली रोबोटिक अंतरिक्ष प्रयोगशाला से अपना जुड़ाव 27 जुलाई 2016 को  समाप्त कर दिया? – फिलाए (Philae)

विस्तार: “फिलाए” (Philae) यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA) के उस रोबोटिक प्रयोगशाला अभियान का नाम था जो किसी धूमकेतु (comet) पर उतरने वाला पहला मानवीय अंतरिक्ष मिशन बना था। इसने 67P/चुरयुमोव-गेरासिमेंको (Comet 67P/Churyumov-Gerasimenko) नामक धूमकेतु पर उतर इससे सम्बन्धित तमाम जानकारी प्रदान की थी।

 यह ESA के रॉसेटा (Rosetta) नामक मिशन का हिस्सा था जिसे मार्च 2004 में पृथ्वी से प्रक्षेपित किया गया था। 1.4 अरब डॉलर के इस मिशन ने लगभग 6.5 अरब किलोमीटर का लम्बा सफर कर अगस्त 2014 में इस धूमकेतु की कक्षा में प्रवेश करने में सफलता हासिल की थी।

 लेकिन तमाम महत्वपूर्ण जानकारी भेजने के बाद फिलाए तकनीकी खराबियों के कारण 9 जुलाई 2015 को असक्रिय हो गया। 12 माह से अधिक इंतज़ार करने के बाद ESA के वैज्ञानिकों ने अंतत: 27 जुलाई 2016 को इस मिशन से अपने सर्वरों का संपर्क तोड़ लिया। वहीं फिलाए का मातृ-अभियान रॉसेटा इस धूमकेतु के आस-पास लगभग दो माह तक सक्रिय रहेगा।

………………………………………………………

Poseidon-8I-2016

4) भारत ने समुद्री निगरानी तथा पनडुब्बी-रोधी तकनीक से लैस चार और विमान अमेरिका (US) से खरीदने के लिए 27 जुलाई 2016 को एक समझौता किया है। इस समझौते में शामिल यह विमान कौन सा है? – पोसाइडन-8आई (Poseidon-8I)

विस्तार: उल्लेखनीय है कि चार और पोसाइडन-8आई (Poseidon-8I) विमान खरीदने के इस समझौते से पूर्व भारत ने वर्ष 2008 में ऐसे आठ विमान सीधे बोइंग (Boeing) कम्पनी की भारतीय सहयोगी कम्पनी से 2.1 अरब डॉलर मूल्य पर खरीदे थे। इन विमानों का नौसेना बेस तमिलनाडु के अराक्कोणम के पास स्थित रजाली (Rajali) कस्बे में स्थित है।

 पोसाइडन-8I एक लम्बी दूरी तक निगरानी प्रदान करने वाला नौसेना निगरानी (maritime surveillance) विमान है जो सतही मिसाइलों तथा पनडुब्बियों से सुरक्षा प्रदान करने में सक्षम है।

 चार और पोसाइडन-8I विमान प्राप्त होने से भारतीय नौसेना को अपनी निगरानी सम्बन्धी कार्रवाइयों में काफी सहायता मिलने की संभावना है। हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की बढ़ती गतिविधियों के परिप्रेक्ष्य यह समझौता महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

………………………………………………………

5) केन्द्रीय कैबिनेट (Union Cabinet) ने 27 जुलाई 2016 को भारतीय स्टॉक एक्सचेंजों में व्यक्तिगत विदेशी निवेशकों (individual foreign investors) के लिए अधिकतम हिस्सेदारी सीमा को बढ़ाकर 15% करने के प्रस्ताव को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी। अभी तक यह सीमा कितनी थी? –5%

विस्तार: अब व्यक्तिगत विदेशी निवेशक भारतीय स्टॉक एक्सचेंजों (किसी स्टॉक में) में अधिकतम 15% तक हिस्सेदारी हासिल कर सकेंगे। अभी तक यह अधिकतम सीमा 5% थी। इस सम्बन्ध में केन्द्रीय कैबिनेट ने 27 जुलाई 2016 को अपनी स्वीकृति प्रदान की।

 उल्लेखनीय है कि विदेशी निवेशक मिलकर (aggregate) किसी भारतीय स्टॉक एक्सचेंज अथवा कमोडिटी एक्सचेंज में किसी स्टॉक में अधिकतम 49% हिस्सेदारी हासिल कर सकते हैं।

………………………………………………………

6) देश की सबसे बड़ी कार कम्पनी मारुति सुज़ुकी इण्डिया लिमिटेड (MSIL) ने 27 जुलाई 2016 को घोषणा की कि वह अपने पहले हल्के वाणिज्यिक वाहन (light commercial vehicle – LCV) की बिक्री पायलट-आधार पर अगस्त 2016 से शुरू करने कि घोषणा की। इस वाहन का नाम क्या रखा गया है? – सुपर कैरी (Super Carry)

विस्तार: “सुपर कैरी” (Super Carry) मारुति सुज़ुकी इण्डिया (MSIL) द्वारा तैयार किया गया पहला हल्का वाणिज्यिक वाहन (LCV) है। कम्पनी ने 27 जुलाई 2016 को घोषणा की कि वह अगस्त 2016 से इस वाहन को पायलट-आधार (pilot basis) पर बेचना शुरू करेगा।  इसे अहमदाबाद, कोलकाता और लुधियाना में पायलट-आधार पर बेचा जायेगा।

 “सुपर कैरी” को डीज़ल विकल्प में उपलब्ध कराया जायेगा। मारुति सुज़ुकी ने इस नए वाहन को तैयार करने के लिए 300 करोड़ रुपए का निवेश किया है। इसकी क्षमता 740 किलो भार उठाने की होगी।

………………………………………………………

 

http://www.churugurukul.com/current-affairs-27-28-july-2016