Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 29 - 31 Aug 2017

1) चीन और भूटान के बीच डोकलाम (Doklam) पठार पर अधिकार को लेकर भारत (India) और चीन (China) के बीच शुरू हुआ विवाद अंतत: कई सप्ताह की राजनयिक वार्ता के बाद 28 अगस्त 2017 को उस समय हल हो गया जब दोनों देशों की सेनाओं ने विवादित स्थल छोड़ने की घोषणा कर दी। यह विवाद किस तारीख को शुरू हुआ था? – 16 जून 2017

विस्तार: डोकलाम (Doklam) पठार और घाटी से बना स्थान है जिसके उत्तर में चीन के नियंत्रण वाले तिब्बत की चुंबी घाटी (Chumbi Valley) है, पूर्व में भूटान की हा घाटी (Ha Valley) है तथा पश्चिम में भारत का सिक्किम (Sikkim) राज्य है। वर्ष 1961 से भूटान मानचित्रों में इसे अपने भू-भाग के रूप में दिखाता आ रहा है लेकिन चीन भी इसे अपना हिस्सा बताता रहा है। भारत ने हालांकि डोकलाम को अपना भू-भाग नहीं माना है लेकिन वह भूटान के दावे को मानता आ रहा है।

यह विवाद 16 जून 2017 को उस समय शुरू हुआ जब चीन के फौजी दस्ते अपने निर्माण वाहनों तथा सड़क बनाने के उपकरणों के साथ डोकलाम में प्रविष्ट हो गए तथा उन्होंने उत्तर में चल रही अपनी सड़क परियोजना को यहाँ विस्तारित करना शुरू कर दिया। भूटान से इसे अपनी संप्रभुता पर वार बताया। वहीं चीन के इस अवैध निर्माण को रोकने के लिए 18 जून 2017 को 270 भारतीय सैनिक हथियारों तथा दो बुलडोज़रों के साथ डोकलाम में प्रविष्ट हो गए। तबसे डोकलाम विवाद (Doklam Controversy) चालू था तथा चीनी सरकार तथा वहां का सरकारी नियंत्रण वाला मीडिया भारत को तमाम तरह से डराने की कोशिश करता रहा।

लेकिन 28 अगस्त 2017 को इस विवाद का शांतिपूर्ण तरीके से पटाक्षेप हो गया जब दोनों देशों ने अपनी सैन्य टुकड़ियों को वापस बुलाने पर सहमति जता दी। भारत ने अपनी टुकड़ी को सिक्किम वापस बुला लिया।

उल्लेखनीय है कि इस मामले को ऐसे समय पर सुलझाया गया है जब एक सप्ताह के भीतर भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 3 सितम्बर 2017 से चीन में शुरू हो रहे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन (BRICS Summit) में भाग लेने वहाँ रवाना होने वाले थे।

……………………………………………………………….

2) केन्द्र सरकार द्वारा 28 अगस्त 2017 को जारी समेकित प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति (consolidated Foreign Direct Investment (FDI) policy) का एक अहम एवं महत्वपूर्ण पहलू क्या है? – पहली बार किसी FDI नीति में स्टार्ट-अप्स (Start-ups) के लिए नियमों की घोषणा की गई है

विस्तार: 28 अगस्त 2017 को जारी समेकित प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति में स्टार्ट-अप्स (Start-ups) को विदेशी वेंचर कैपिटल निवेशकों को इक्विटी (शेयर), इक्विटी से जुड़ी प्रतिभूतियाँ एवं डेब्ट इंस्ट्रूमेण्ट्स जारी करने की अनुमति प्रदान की गई है। इसके अलावा उन्हें भारत के बाहर रहने वाले नागरिकों को कुछ शर्तों के साथ कन्वर्टेबुल नोट्स (convertible notes) जारी करने की अनुमति भी प्रदान की गई है।

इस प्रकार यह पहला ही मौका है जब किसी विदेशी प्रत्यक्ष निवेश नीति में स्टार्ट-अप्स को भी शामिल किया गया है।

……………………………………………………………….

3) 28 अगस्त 2017 को किसने भारत के 45वाँ मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ग्रहण की? – न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा (Justice Dipak Misra)

विस्तार: राष्ट्रपति भवन के दरबार हाल में 28 अगस्त 2017 को हुए एक सादे समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा (Justice Dipak Misra) को सर्वोच्च न्यायालय के नए मुख्य न्यायाधीश (Chief Justice of Supreme Court) की शपथ दिलाई। वे देश के 45वें मुख्य न्यायाधीश बने।

उन्होंने एक दिन पूर्व 27 अगस्त 2017 को सेवानिवृत्त हुए न्यायमूर्ति जे.एस. खेहर (Justice J.S. Khehar) का स्थान लिया। न्यायमूर्ति मिश्रा उस समय चर्चा में आए थे जब मुम्बई बम धमाकों के एकमात्र सजा-प्राप्त मुजरिम याकूब मेमन (Yakub Memon) ने अपनी फाँसी रोकने के लिए अपनी फाँसी के दिन सर्वोच्च न्यायालय में गुहार लगाई थी तथा न्यायमूर्ति मिश्रा की अध्यक्षता में सर्वोच्च न्यायालय की 3-सदस्यीय पीठ ने तड़के यह सुनवाई की थी।

इसके अलावा न्यायमूर्ति मिश्रा देश के मुख्य न्यायाधीश बनने वाले ओडीशा (Odisha) के तीसरे व्यक्ति हैं। इससे पहले न्यायमूर्ति रंगनाथ मिश्र (Justice Ranganath Misra) और न्यायमूर्ति जी.बी. पटनायक (Justice G.B. Pattanaik) यह मुकाम हासिल कर चुके हैं।

……………………………………………………………….

4) किस खिलाड़ी ने बीडब्ल्यूएफ विश्व बैडमिण्टन चैम्पियनशिप्स (BWF World Badminton Championship 2017) के महिला एकल (women’s singles) फाइनल में 27 अगस्त 2017 को भारत की पी.वी. सिंधु (P.V. Sindhu) को हराकर यह प्रतिष्ठित खिताब जीत लिया? – नोज़ोमी ओकुहारा (Nozomi Okuhara)

विस्तार: जापान (Japan) की नोज़ोमी ओकुहारा (Nozomi Okuhara) ने भारत की पी.वी. सिन्धु (P.V. Sindhu) के महिला एकल विश्व चैम्पियन बनने के सपने को उस समय ध्वस्त कर दिया जब उन्होंने 27 अगस्त 2017 को हुए एक बेहद लम्बे और ऐतिहासिक फाइनल में पराजित कर दिया। इस प्रकार वे यह प्रतिष्ठित खिताब जीतने वाली जापान की पहली महिला बन गईं जबकि अभी तक कोई भारतीय बैडमिंटन का एकल खिताब नहीं जीत पाया है।

1 घण्टा 49 मिनट लम्बे इस फाइनल मुकाबले में ओकुहारा ने सिंधु को 21-19, 20-22, 22-20 से पराजित किया। यह मुकाबला हारकर सिंधु को रजत पदक (silver medal) से संतोष करना पड़ा। उन्होंने इस चैम्पियनशिप के पूर्व संस्करणों में दो कांस्य पदक भी जीते हैं।

वहीं एक और भारतीय खिलाड़ी साइना नेहवाल (Saina Nehwal) को कांस्य पदक मिला क्योंकि वे 26 अगस्त 2017 को हुए सेमी-फाइनल में नोज़ोमी ओकुहारा के हाथों ही हार गई थीं। हालांकि यह प्रतियोगिता भारत के लिहाज से काफी अच्छी रही क्योंकि यह पहला ही मौका था जब बीडब्ल्यूएफ विश्व बैडमिण्टन चैम्पियनशिप्स में भारत के दो खिलाड़ियों को पदक हासिल हुए हो।

इस प्रतियोगिता का पुरुष एकल खिताब डेनमार्क (Denmark) के विक्टर एक्सेलसन (Viktor Axelsen) ने चीन (China) के दिग्गज खिलाड़ी लिन डेन (Lin Dan) को 22-20, 21-16 से हराकर जीता। वे यह खिताब जीतने वाले डेनमार्क के तीसरे खिलाड़ी बने। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2017 की बीडब्ल्यूएफ विश्व बैडमिण्टन चैम्पियनशिप्स का आयोजन 21 से 27 अगस्त 2017 के बीच स्कॉटलैण्ड (Scotland) के ग्लेसगो (Glasgow) में किया गया।

……………………………………………………………….

5) सभी क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालयों (Regional Passport Offices) को एक छत के नीचे लाने के प्रयास के तहत भारत के पहले “विदेश भवन” (“Videsh Bhawan”) का उद्घाटन 27 अगस्त 2017 को कहाँ किया गया? – मुम्बई (Mumbai)

विस्तार: विदेश मेंत्री सुषमा स्वराज ने देश के पहले “विदेश भवन” का उद्घाटन 27 अगस्त 2017 को मुम्बई (Mumbai) में किया। अपनी तरह की इस पहली पायलट परियोजना के तहत क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय (Regional Passport Offices) के अलावा, प्रोटेक्टर ऑफ एमिग्रेण्ट्स का कार्यालय (Protector of Emigrants (PoE) office), शाखा सचिवालय (Branch Secretariat) और आईसीसीआर के क्षेत्रीय कार्यालय (Regional Office of the ICCR) को विदेश भवन में एक अत्याधुनिक कार्यालय संकुल में एक छत के नीचे लाया गया है।

उल्लेखनीय है कि इस समय देश में 90 से अधिक क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय तथा प्रोटेक्टर ऑफ एमिग्रेण्ट्स कार्यालय किराए के भवनों में संचालित हो रहे हैं। इससे विदेश मंत्रालय को प्रत्येक वर्ष किराए तथा रखरखाव में भारी खर्च करना पड़ता है। यदि ऐसे कार्यालयों को विदेश भवनों में एकीकृत किया जाय तो एक तरफ विदेश विभाग की कार्यकुशलता बढ़ेगी तो दूसरी ओर इससे किराए पर होने वाले भारी व्यय से निजात मिलेगी।

……………………………………………………………….

6) केन्द्र सरकार ने 30 अगस्त 2017 को घोषणा की कि भारतीय थलसेना (Indian Army) की युद्धक क्षमता (combat capability) में संवृद्धि करने और उसके खर्चों को वस्तुपरक व अनुकूल (optimize) बनाने के उद्देश्य से सेना में व्यापक सुधार शुरू किए जायेंगे। सुधारों का यह ऐतिहासिक कदम इस विषय पर बनी किस समिति की सिफारिशों को मानते हुए उठाया जा रहा है? – डी.बी. शेकटकर समिति (D.B. Shekatkar Committee)

विस्तार: ले. जनरल डी.बी. शेकटकर (सेवानिवृत्त) की अध्यक्षता में 11-सदस्यीय समिति का गठन केन्द्र सरकार ने 20 मई 2016 को किया था। इस समिति को ऐसे उपाय सुझाने का काम सौंपा गया था जिससे भारतीय थलसेना की युद्धक क्षमता में वृद्धि की जा सके तथा प्रतिरक्षा खर्चों को अधिक संतुलित तथा वस्तुपरक किया जा सके।

डी.बी. शेकटकर समिति D.B. Shekatkar Committee) ने अपनी सिफारिशें तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को 21 दिसम्बर 2016 को सौंपी थीं। समिति ने रिपोर्ट सौंपते हुए यह कहा था कि यदि इन सिफारिशों को ईमानदारी से लागू किया जाए तो अगले 5 वर्षों में 25,000 करोड़ रुपए तक की बचत की जा सकती है।

30 अगस्त 2017 को रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने घोषणा की कि समिति द्वारा की गई सिफारिशों में से 65 को लागू किया जायेगा। सेना में सुधारों से सम्बन्धित इन उपायों में शामिल कुछ प्रमुख उपाय हैं – 57,000 सैनिकों की तैनाती में बदलाव करना, सेना के संचार माध्यमों को कुशल बनाना, 39 मिलिट्री फॉर्मों को बन्द कर इन फॉर्मों द्वारा घेरी जमीन का बेहतर उपयोग करना, आपूर्ति व परिवहन जैसे तंत्रों को अधिक कार्यकुशल बनाना तथा सैन्य डाक विभाग (military postal department) जैसे उपक्रमों को बंद करना।

यह पहली बार होगा जब भारतीय थलसेना के परिचालन में ऐसे सुधार किसी केन्द्र सरकार द्वारा लागू किए जा रहे हैं। इस सम्बन्ध में तमाम प्रतिरक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि यह उपाय बहुत पहले अपनाए जाने चाहिए थे।

……………………………………………………………….

7) भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा 30 अगस्त 2017 को जारी की गई अपनी वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल अमान्य घोषित किए गए 500 व 1000 रुपए के करेंसी नोटों का कितना प्रतिशत भाग उसके पास वापस लौट आया है? – 98.96%

विस्तार: भारतीय रिज़र्व बैंक की वार्षिक रिपोर्ट (Annual Report) में उल्लेख किया गया है कि अमान्य घोषित किए गए 500 व 1000 रुपए के करेंसी नोटों का 98.96% उसके पास जून 2017 के अंत तक वापस आ गया है। 30 अगस्त 2017 को जारी इस रिपोर्ट के अनुसार इन दो प्रकार के अमान्य नोटों का कुल परिचालन मूल्य 15.44 ट्रिलियन था जबकि विमुद्रीकरण (Demonetization) की घोषणा के बाद 30 जून 2017 तक जमा इन नोटों का कुल मूल्य 15.28 ट्रिलियन है।

उल्लेखनीय है कि 8 नवम्बर 2016 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा एक झटके में 500 व 1000 रुपए के नोटों को बंद करने की घोषणा तथा ऐसे नोटों को वापस जमा करने से सम्बन्धित तमाम शर्तों के चलते माना जा रहा था कि काला धन रखने वाले तमाम लोग पकड़े जाने के डर से अपना धन वापस जमा नहीं करेंगे। लेकिन आरबीआई द्वारा जारी इन आंकड़ों को देखने से स्पष्ट हो जाता है कि लगभग पूरी करेंसी केन्द्रीय बैंक के वापस आ गई है तथा इससे विमुद्रीकरण के निर्णय की उपयोगिता पर प्रश्न-चिह्न भी लग रहे हैं।

……………………………………………………………….

8) भारत के सबसे लम्बे झूलते हुए पुल (India’s longest hanging bridge) का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 29 अगस्त 2017 को किया। यह पुल कहाँ स्थित है? – कोटा (राजस्थान)

विस्तार: राजस्थान (Rajasthan) के कोटा (Kota) में चम्बल नदी (Chambal River) पर बनाए गए देश के सबसे लम्बे झूलते हुए पुल का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 29 अगस्त 2017 को किया। उन्होंने उदयपुर में एक रिमोट का बटन दबाकर पुल का उद्घाटन किया। इस नवनिर्मित पुल को “कोटा बाइपास ब्रिज” (“Kota Bypass Bridge”) के नाम से जाना जाता है तथा यह कोटा शहर के बाहरी क्षेत्र में चम्बल नदी के ऊपर बनाया गया है।

इस पुल की कुल लम्बाई 1.5 किलोमीटर है। इसे लोहे के मोटे तारों से साधा गया है तथा झूलते हुए मुख्य भाग की लम्बाई 350 मीटर है। यह चम्बल नदी से लगभग 60 मीटर ऊपर स्थित है।

वैसे कोटा स्थित इस पुल का काम वर्ष 2007 में शुरू हुआ था तथा इसे 2012 में पूरा हो जाना था लेकिन वर्ष 2009 में हुए एक भीषण दुर्घटना तथा अन्य कारणों के चलते इसका काम खिंचता गया। 2009 के हादसे में पुल पर काम कर रहे 48 कर्मचारियों की मौत हुई थी।

……………………………………………………………….

9) उस खतरनाक श्रेणी के उष्णकटिबन्धीय तूफान (tropical storm) का क्या नाम है जिसके कारण अगस्त 2017 के दौरान अमेरिका के दक्षिण-पूर्वी टैक्सास में अकल्पनीय बारिश और बाढ़ के कारण कई लोगों की मौत हो गई? – हार्वी (Harvey)

विस्तार: हार्वी (Harvey) उस उष्णकटिबन्धीय तूफान को दिया गया नाम है जो अमेरिका में पिछले 12 सालों में टकराने वाला ऐसा पहला तूफान है। इससे पहले इस श्रेणी का आया अंतिम तूफान विल्मा (Wilma) था जो वर्ष 2005 में आया था। यह तूफान सबसे पहले 17 अगस्त 2017 को एक छोटे चक्रवात के रूप में देखा गया था लेकिन लगातार मजबूत होते हुए 25 अगस्त 2017 को इसे श्रेणी 4 का तूफान घोषित कर दिया गया। इसके कुछ घण्टे के बाद यह तूफान टैक्सास के रॉकपोर्ट (Rockport) के पास टकराते हुए प्रविष्ट हो गया।

हार्वी के कारण दक्षिण-पूर्वी टैक्सास (Southeastern Texas) और ग्रेटर ह्यूस्टन (Greater Houston) में भीषण बाढ़ के कारण भारी तबाही हुई और कम से कम 29 लोगों की मौत हो गई। प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार इस तूफाने के कारण अमेरिकी अर्थव्यवस्था को 10 से 50 अरब डॉलर तक का नुकसान हुआ है।

……………………………………………………………….

10) केन्द्र सरकार ने 29-30 अगस्त 2017 को सार्वजनिक क्षेत्र के किस उपक्रम में अपनी 5% हिस्सेदारी का विनिवेश (Disinvest) कर लगभग 7,000 करोड़ रुपए हासिल किए? – एनटीपीसी (NTPC)

विस्तार: केन्द्र सरकार ने 29 और 30 अगस्त 2017 को देश के सबसे बड़े ऊर्जा उत्पादक उपक्रम सार्वजनिक क्षेत्र के एनटीपीसी (NTPC) में अपनी 5% हिस्सेदारी का विनिवेश किया। ऑफर-फॉर-सेल (OFS) माध्यम से किए गए इस विनिवेश के द्वारा कुल 41.22 करोड़ शेयर 168 रुपए की कीमत पर बेचे गए।

बिक्री के पहले दिन यानि 29 अगस्त 2017 को संस्थागत निवेशकों (institutional investors) को 32.98 करोड़ शेयर बेचे गए जिसके लिए 46.35 करोड़ शेयर्स के लिए बोली लगी। 30 अगस्त 2017 को खुदरा निवेशकों को 8.24 करोड़ शेयर्स बेचे गए।

उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार की एनटीपीसी में 30 जून 2017 तक कुल हिस्सेदारी 69.74% थी। वर्ष 2017-18 के दौरान केन्द्र सरकार ने विनिवेश के द्वारा 72,500 करोड़ रुपए अर्जित करने का लक्ष्य बनाया है।

……………………………………………………………….

http://churugurukul.com/?q=current-affairs-27-28-aug-2017