Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 29 Sep to 30 Sep 2017

1) केन्द्र सरकार ने 25 सितम्बर 2017 को देश के किस प्रमुख बंदरगाह का नाम बदलकर “दीनदयाल पोर्ट ट्रस्ट” (‘Deendayal Port Trust’) कर दिया? – काण्डला बंदरगाह

विस्तार: गुजरात (Gujarat) स्थित काण्डला (Kandla) बंदरगाह, जोकि देश के 12 प्रमुख बंदरगाहों में से एक है, का नाम 25 सितम्बर 2017 को हिंदुत्व के प्रमुख स्तंभ माने जाने वाले नेता दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर कर दिया गया। यह बंदरगाह अब “दीनदयाल पोर्ट ट्रस्ट” (‘Deendayal Port Trust’) हो गया है। कच्छ की खाड़ी में स्थित काण्डला देश के पश्चिमी तट का प्रमुख बंदरगाह है तथा पिछले वर्ष माल के भार-वहन (volume of cargo) के मामले में यह देश का सबसे बड़ा बंदरगाह था।

– केन्द्र सरकार ने 1908 के भारतीय बंदरगाह अधिनियम (Indian Ports Act, 1908) में प्रदत्त शक्तियों के अधीन इस बंदरगाह का नाम दीनदयाल बंदरगाह किया है।

……………………………………………………………

2) कौन सा राज्य देश का पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है जहाँ विधानसभा चुनावों के समस्त चरणों तथा समस्त मतदान केन्द्रों पर वीवीपैट (VVPAT) सुविधा से लैस इलेक्ट्रॉनिक मतदान मशीनों का प्रयोग किया जायेगा? – गुजरात (Gujarat)

विस्तार: 28 सितम्बर 2017 को गुजरात के मुख्य मतदान अधिकारी (Chief Electoral Officer – CEO) बी.बी. स्वेन (B.B. Swain) द्वारा की गई घोषणा के अनुसार इस वर्ष के अंत तक राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों के समस्त मतदान केन्द्रों में वीवीपैट (VVPAT – Voter Verifiable Paper Audit Trail) सुविधा से लैस इलेक्ट्रॉनिक मतदान मशीनों (EVMs) का प्रयोग किया जायेगा। इस प्रकार गुजरात देश का पहला राज्य बनेगा जहाँ पूरा विधानसभा चुनाव इस पद्धति से सम्पन्न कराया जायेगा।

– वीवीपैट मशीनों का प्रयोग करने का निर्णय सुश्री रेशमा पटेल (Ms. Reshma Patel) नामक नेता द्वारा इस सम्बन्ध में दायर याचिका के परिप्रेक्ष्य में लिया गया है। वे पाटीदार अनामत आंदोलन समिति की नेता हैं। उल्लेखनीय है कि ईवीएम मशीनों में लगी वीवीपैट सुविधा से एक पर्ची के द्वारा मतदाता को इस तथ्य का सत्यापन हो जाता है कि उसका मत अपेक्षित उम्मीदवार के पक्ष में ही गया है।

……………………………………………………………

3) राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने 30 सितम्बर 2017 को किन हस्तियों को 5 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों के राज्यपाल/उप-राज्यपाल के तौर पर नियुक्त किया? – बनवारीलाल पुरोहित, सत्यपाल मलिक, गंगा प्रसाद, ब्रिगेडियर बी.डी. मिश्रा (सेवानि.) और एडमिरल डी.के. जोशी (सेवानि.)

विस्तार: राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने 30 सितम्बर 2017 को देश के चार राज्यों और एक केन्द्र शासित प्रदेश में नए राज्यपाल तथा उप-राज्यपाल की नियुक्ति की। बनवारीलाल पुरोहित (Banwarilal Purohit) को तमिलनाडु (Tamil Nadu) का नया राज्यपाल नियुक्त किया गया। महाराष्ट्र के राज्यपाल सी. विद्यासागर राव अभी तक तमिलनाडु के राज्यपाल की जिम्मेदारी को एक अतिरिक्त जिम्मेदारी के रूप में निभा रहे थे।

– भाजपा के वरिष्ठ नेता सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) को बिहार (Bihar) का नया राज्यपाल नियुक्त किया गया। रामनाथ कोविन्द को देश का राष्ट्रपति बनाए जाने के बाद राज्यपाल का पद रिक्त था तथा पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी तबसे बिहार के राज्यपाल की जिम्मेदारी को एक अतिरिक्त जिम्मेदारी के रूप में निभा रहे थे।

– बिहार विधानपरिषद के पूर्व सदस्य गंगा प्रसाद (Ganga Prasad) को मेघालय (Meghalaya) का नया राज्यपाल बनाया गया। वे बनवारीलाल पुरोहित से यह जिम्मेदारी लेंगे जो असम के राज्यपाल के तौर पर मेघालय के राज्यपाल की जिम्मेदारी अतिरिक्त जिम्मेदारी के तौर पर वहन कर रहे थे।

– सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर बी.डी. मिश्रा (Brig BD Mishra – Retd.) को अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) का नया राज्यपाल बनाया गया है। वे नगालैण्ड के राज्यपाल पी.बी. आचार्य से यह जिम्मेदारी लेंगे जो अरुणाचल के राज्यपाल की जिम्मेदारी अतिरिक्त जिम्मेदारी के तौर पर वहन कर रहे थे।

– वहीं भूतपूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल डी.के. जोशी (Admiral DK Joshi – Retd.) को रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण अण्डमान व निकोबार (Andaman and Nicobar Islands) के उप-राज्यपाल (Lt. Governor) की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस पद को अभी तक संभाल रहे वरिष्ठ भाजपा नेता जगदीश मुखी को असम की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

……………………………………………………………

4) 26 सितम्बर 2017 को जारी विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum – WEF) द्वारा तैयार वैश्विक प्रतिस्पर्धा सूचकांक (Global Competitiveness Index) में भारत को क्या स्थान प्रदान किया गया है? – 137 देशों में 40वाँ

विस्तार: विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum – WEF) द्वारा 26 सितम्बर 2017 को जारी वैश्विक प्रतिस्पर्धा सूचकांक (Global Competitiveness Index) में भारत सूचकांक में शामिल कुल 137 देशों में 40वाँ हैं। सूचकांक के अनुसार भारत दक्षिण एशिया का सबसे प्रतिस्पर्धी देश बना हुआ है।

– उल्लेखनीय है कि हालांकि भारत का स्थान पिछले साल के सूचकांक के मुकाबले एक स्थान फिसला है लेकिन WEF के अनुसार दोनों सूचकांक को तैयार करने के तरीके में व्यापक परिवर्तन के कारण दोनों की परस्पर तुलना नहीं की जा सकती है तथा भारत की स्थिति में पिछले वर्ष की तुलना में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। वहीं स्विट्ज़रलैण्ड (Switzerland) को विश्व का सबसे प्रतिस्पर्धी देश बताते हुए उसे सूचकांक में पहले स्थान पर रखा गया है।

……………………………………………………………

5) सुप्रसिद्ध फिल्म व टेलीविज़न अभिनेता तथा थियेटर हस्ती टॉम ऑल्टर (Tom Alter) का 29 सितम्बर 2017 को 67 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उनके पूर्वजों की मूल राष्ट्रीयता क्या थी? – अमेरिकी

विस्तार: टॉम ऑल्टर स्विस-जर्मन मूल वाले अमेरिकी ईसाई मिशनरियों की संतान थे तथा उनके दादा का परिवार 1916 से अमेरिका के ओहायो (Ohio) से भारत आया था। टॉम का जन्म 1950 में वर्तमान उत्तराखण्ड के मसूरी (Mussoorie) में हुआ था।

– अपने शानदार करियर में उन्होंने 300 से अधिक फिल्मों में काम करने के अलावा अनगिनत टेलीविज़न सीरियल्स में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाईं। उनके प्रारंभिक दौर की प्रमुख फिल्में थीं – सत्यजीत राय की “शतरंज के खिलाड़ी” (1977), श्याम बेनेगल की “जुनून” (1979), मनोज कुमार की “क्रांति” (1981) और राज कपूर की “राम तेरी गंगा मैली” (1985)। वहीं 90 के दशक में उन्होंने महेश भट्ट की “आशिकी”, “जुनून” और “गुमराह”, केतन मेहता की “सरदार” और प्रियदर्शन की “सजा-ए-काला पानी” में प्रमुख भूमिकाएं निभाईं।

– 90 के दशक में दूरदर्शन में 5 वर्ष प्रसारित होने वाले सुप्रसिद्ध सीरियल “जुनून” में उन्होंने केशव कलसी नामक एक गैंगस्टर की भूमिका को बेहद खूबसूरती से निभाया था। 80 व 90 के दशक में उन्होंने निर्देशन एवं खेल पत्रकारिता में भी उल्लेखनीय कार्य किया था। वे सचिन तेंदुलकर का इंटरव्यू लेने वाले पहले पत्रकार थे जब सचिन ने भारत के लिए खेलना भी नहीं शुरू किया था।

……………………………………………………………

6) सितम्बर 2017 के दौरान किस ऑटोमोबाइल कम्पनी को भारत सरकार के तहत आने वाले उपक्रम EESL ने 10,000 इलेक्ट्रिक वाहनों (electric vehicles) की आपूर्ति का ठेका प्रदान किया है जोकि इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति का दुनिया का सबसे बड़ा एकल ठेका है? – टाटा मोटर्स (Tata Motors)

विस्तार: भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय (Ministry of Power) के अधीन आने वाले उपक्रम Energy Efficiency Services Limited (EESL) ने टाटा मोटर्स (Tata Motors) को 10,000 इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति का ठेका प्रदान किया है। यह घोषणा ऊर्जा मंत्रालय ने सितम्बर 2017 के दौरान की।

– EESL द्वारा जारी किया गया यह ठेका इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति का दुनिया में अब तक का सबसे बड़ा एकल ठेका है। उल्लेखनीय है कि वैश्विक स्तर पर जारी किए गए इस ठेके लिए टाटा मोटर्स के अलावा, महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा (Mahindra & Mahindra) और निसान (Nissan) ने दावेदारी की थी। लेकिन बाद में मुकाबला टाटा मोटर्स और महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा के बीच रह गया था।

– अब ठेके की शर्तों के तहत टाटा मोटर्स को प्रथम चरण में नवम्बर 2017 तक 500 इलेक्ट्रिक कारों (e-cars) की आपूर्ति करनी होगी जबकि दूसरे चरण में शेष 9,500 इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति करनी होगी।

……………………………………………………………

7) भारत सरकार के महापंजीयन कार्यालय (Office of the Registrar General) द्वारा 29 सितम्बर 2017 को जारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2016 के दौरान भारत की नवजात मृत्यु दर (India’s infant mortality rate) कितनी रही? – प्रति 1000 जीवित जन्म पर 34

विस्तार: वर्ष 2016 के दौरान भारत की नवजात मृत्यु दर (India’s infant mortality rate – IMR) प्रति 1000 जीवित जन्म पर 34 (34 per 1,000 live births) रही। यह दर 2015 की दर प्रति 1000 जीवित जन्म पर 37 के मुकाबले 8% कम रही।

– यदि संख्या के आधार पर देखा जाए 2015 के मुकाबले 90,000 कम नवजात शिशुओं की मृत्यु वर्ष 2016 में दर्ज की गई। विशेषज्ञों के अनुसार नवजात मृत्यु दर में कमी का मुख्य कारण संस्थागत प्रसवों (institutional deliveries) यानि अस्पतालों में होने वाले प्रसवों की संख्या में वृद्धि है। वर्ष 2015 में जहाँ मात्र 38% प्रसव संस्थागत थे वहीं वर्ष 2016 में यह संख्या बढ़कर 79.8% हो गई।

……………………………………………………………